भारत की इस 15 साल की बेटी के आगे फीके पड़े दुनिया के वैज्ञानिक !

भारत की इस 15 साल की बेटी के आगे फीके पड़े दुनिया के वैज्ञानिक !
Share on social media

mp03.in वर्ल्ड क्राइम डेस्क/इंटरटेनमेंट (कोलोराडो)।

अमेरिका से देश का गौरव बढ़ाने वाली बड़ी खबर आयी है। वहां भारतीय मूल की पंद्रह साल की किशोरी गीतांजलि राव को विश्व की प्रतिष्ठित मैगज़ीन ‘टाइम’ में कवर पेज पर ‘किड ऑफ़ दि  ईयर’ के तौर पर जगह दी गयी है।  गीतांजलि एक वैज्ञानिक के तौर पर इस उम्र में यह सम्मान हासिल करने वाली पहली किशोरी है।
यूएस के कोलोराडो में रहने वाली गीतांजलि को यह उपलब्धि उनके उस एप के कारण मिली है, जिसके जरिये ऑनलाइन साइबर बुलिंग को शुरू में ही पकड़कर उसकी रोकथाम की जा सकती है। इस एप्प को उन्होंने ‘काइंडली’ नाम दिया है। गौरतलब है कि ऑनलाइन किसी को परेशान करने से लेकर अपराध किये जाने के मामले भी सारी दुनिया में तेजी से बढ़े हैं और इन पर रोक लगाए जाने के लिए सख्त प्रयासों की लंबे समय से  जरूरत महसूस की जा रही है। ऐसे में गीतांजलि का यह एप्प इस दिशा में काफी महत्वपूर्ण और मददगार साबित हो  सकता है।  बता दें कि गीतांजलि ने मेसेचुएट्स स्थित इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी से अनुवांशिकी यानी जेनेटिक्स ऑफ़ महामारी से जुड़े कोर्स पूरे किये हैं।

दस साल की उम्र नैनोट्यूब सेंसर भी बना चुकी है
राव में पहले से ही वैज्ञानिक और आविष्कारक की क्षमता दिखने लगी थी. उन्होंने केवल दस साल की उम्र में ऐसे कार्बन नैनोट्यूब सेंसर का आविष्कार कर दिया था, जिसकी मदद से पानी में मौजूद कैमिकल्स की पहचान की जा सकती है। इस उपलब्धि  के लिए गीतांजलि का नाम फ़ोर्ब्स-30 की अंडर 30 लिस्ट में भी शामिल किया गया था. यह सेंसर उस समय इस दिशा में मदद करने वाले बाकी सभी उपायों से बहुत अधिक तेज साबित हुआ था। क्योंकि यह डिवाइस आसानी से एक से दूसरी जगह ले जाया जा सकता है, इसलिए ज्यादा से ज्यादा लोगों को इसका लाभ मिलने की बात भी स्वीकार की गयी थी। इस सेंसर की मदद से केवल दस सेकंड में पानी की जांच कर उसके सुरक्षित होने या न होने की बात तय की जा सकती है।
पांच हजार लोगों के बीच हुआ चयन
अब टाइम मैगज़ीन में कवर पेज के लिए गीतांजलि का चयन पांच हजार लोगों के बीच से किया गया है. यानी बहुत कड़े मुकाबले के बाद इस भारतवंशी किशोरी ने यह धमाकेदार मुकाम हासिल किया है. टाइम मैगज़ीन की ज्यूरी ने कहा कि गीतांजलि अफीम की लत छुड़ाने के लिए भी डिवाइस पर काम कर चुकी हैं और इस उम्र में समाज के लिए उनका यह जज़्बा अद्भुत है. राव को दो साल पहले यूएस की पर्यावरण रक्षा एजेंसी की  तरफ से राष्ट्रपति का यूथ अवार्ड भी  मिल चुका है. हॉलीवुड की मशहूर अभिनेत्री एंजेलिना जोली ने खुद गीतांजलि का एक इंटरव्यू लिया। इसमें राव ने कहा कि  वह पहनावे, रंग या उम्र की बजाय सामान्य इंसान की तरह रहते हुए ही सफल  वैज्ञानिक बनाना चाहती हैं। राव का कहना था कि वह न सिर्फ अपने शोध और खोजों से मानवता की सेवा करना चाहती हैं, बल्कि उनका यह लक्ष्य भी है कि अन्य लोग भी उनसे प्रेरणा लेकर इसी तरह के काम करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *