छत पर टॉवर लगवाने के लालच में बुजुर्ग ने गंवाए 24 हजार रूपए

छत पर टॉवर लगवाने के लालच में बुजुर्ग ने गंवाए 24 हजार रूपए
Share on social media
mp03.in संवाददाता भोपाल 
टीलाजमालपुरा में छत मोबाइल टॉवर लगवाकर पैसा कमाने के लालच में बुजुर्ग ने 24 हजार रूपए गंवा दिए।दरअसल, उन्होंने एक विज्ञापन में देखा, जिसमें लिखा था कि खेत और छत पर टावर लगाकर एकमुश्त रकम 90 लाख पाएं। साथ ही प्रतिमाह 90 हजार रुपए किराया और परिवार के दो सदस्यों को कंपनी में नौकरी दी जाएगी। बुजुर्ग लोभ में आ गए और उन्होंने जालसाज के खाते में अलग-अलग किश्तों में क्रमश: 24 हजार रुपए जमा कर दिए। रुपए देने के बाद भी जब टॉवर नहीं लगा तो उन्होंने सायबर सेल में शिकायत की। वहां से प्रतिवेदन मिलते ही टीलाजमालपुरा पुलिस ने प्रकरण दर्ज कर लिया है।
पुलिस मोबाइल नंबर और बैंक अकाउंट के आधार पर आरोपी तक पहुंचने का प्रयास कर रही है। सब इंस्पेक्टर गब्बर सिंह ने बताया कि वृंदावन विसोंरिया (70) सूबेदार कॉलोनी टीलाजमालपुरा में रहते हैं। उनकी महुआखेड़ा, बंगरसिया में कृषि योग्य भूमि है। वृंदावन ने वर्ष 2020 जनवरी महीने में एक विज्ञापन में मिले नंबर पर कॉल किया। उन्हें कॉलर ने बताया कि टावर लगाने का सुनहरे अवसर है। वह कॉलर की बातों में आ गए। कॉलर ने उनसे महज पंद्रह रुपए खाते में जमीन का निरीक्षण कराने के नाम पर लिए। कॉलर ने अगले ही दिन कॉल कर कहा कि निरीक्षण हो गया है। जगह टावर के लिए सही है। अब पंद्रह हजार रुपए जमा करा दो। उन्होंने पंद्रह हजार रुपए भी जमा करा दिए। इसी तरह उनके पास एक बार फिर कॉल आया और कहा गया कि टॉवर लगाने के आपको 90 लाख रुपए मिलेंगे, लेकिन इनकम टैक्स कटेंगा उसके 12500 रुपए आपकों खाते में जमा करना पड़ेगा। इसी तरह टावर के नाम पर जालसाज 1 जनवरी से 27 जनवरी 2020 के बीच जालसाज के पंजाब नेशनल बैंक के खाते में 24 हजार रुपए जमा करा चुके थे। जब रुपए देने के बाद भी टॉवर नहीं लगा तो उन्होंने कॉलर से संपर्क करना चाहा, लेकिन उसका मोबाइल बंद हो चुका था।
फर्जी कस्टमेयर केयर प्रतिनिधि ने लगाया बारह हजार का चूना
टीलाजमालपुरा इलाके में रहने वाले अजय बैरागी ने बताया कि नवंबर 2020 में उन्होंने जिओ कंपनी का एक 499 रुपए का रिचार्ज किया था। रिचार्ज गलत नंबर पर हो गया है। उन्होंने गूगल सर्च इंजन पर कस्टमेयर केयर प्रतिनिधि का नंबर देखा और उनके हाथ जालसाज का नंबर लग गया। जालसाज ने खुद को प्रतिनिधि बताया और इसके बाद ट्रांजेक्शन आईडी मांगी। ट्रांजेक्शन आईडी देते ही उनके खाते से 12365 रुपए कट गए। उन्होंने घटना की शिकायत सायबर सेल में की थी। इसके बाद प्रकरण टीलाजमालपुरा पुलिस को सौंपा गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *