वेतनकम करने के विवाद पर सिक्योरिटी गार्डन ने सुपरवाइजर की गोली मारकर की हत्या

वेतनकम करने के विवाद पर सिक्योरिटी गार्डन ने सुपरवाइजर की गोली मारकर की हत्या
Share on social media

mp03.in संवाददाता भोपाल 

एमपी नगर इलाके में स्थित निर्माण सदन परिसर में वेतन कम मिलने को लेकर हुए विवाद में सिक्योरिटी गार्ड ने अपनी ही कंपनी के सुपरवाइजर की लायसेंसी  बंदूक से गोली मारकर हत्या कर दी। वारदात के बाद फरार होने की फिराक में भागे हत्यारे सिक्योरिटी गार्ड एक इनोवा कार से टकराकर घायल हो गया। तभी मौके पर मौजूद लोगों ने उसे पकड़ लिया और पुलिस के हवाले कर दिया।

पुलिस के मुताबिक 40 वर्षीय राजकुमार ठाकुर सर्वोदय सिक्युरिटी एजेंसी में सुपरवाइजर थे। ये एजेंसी निर्माण सदन में सिक्योरिटी का काम करती है। एजेंसी ने मयंक तिवारी गार्ड के पद पर तैनात है। गुरुवार सुबह करीब 9 बजे सुपरवाइजर निर्माण सदन परिसर पहुंचा। जहां पहले से मौजूद  सिक्योरिटी गार्ड मंयक तिवारी ने सैलरी काटने को लेकर उससे गाली गलौच शुरु कर दी। सुपरवाइजर ठाकुर ने सिक्योरिटी गार्ड को अच्छे से नौकरी करने की नसीहत दी। इसी बीच गार्ड ने अपनी रखी लायसेंसी 12 बोर बंदूक से सुपरवाइजर ठाकुर पर दो फायर कर दिए। एक गोली सीने और एक पेट में जा लगी, गोली लगते ही सुपरवाइजर ठाकुर लहूलुहान होकर जमीन पर अचेत होकर गिर पड़े। गोली चलने की आवाज से अफरा-तफरी मच गई और गार्ड मौके से भाग खड़ा हुआ,जोकि सड़क पर तेज रफ्तार आ रही इनावो कार से टकराकर घायल होकर जमीन पर गिर गया। इसके बाद मौके पर मौजूद लोगों ने उसे पकड़ लिया। घटना की खबर लगते ही मौके पर पहुंची पुलिस ने खून से लथपथ सुपरवाइज को इलाज के लिए अस्पताल भेज दिया। जहां डॉक्टरों ने चैक करने के बाद उसे मृत घोषित कर दिया। साथ ही पुलिस ने आरोपी गार्ड मयंक तिवारी को गिरफ्तार कर लिया।
12 हजार कट गए थे सेलरी से 

आरोपी गार्ड मयंक तिवारी को बीते महीने तक सैलरी 27 हजार रुपए के आसपास मिलती थी। इस बार उसके खाते में 15 हजार रुपए ही आए। इससे वह नाराज था। उसे शक था कि सैलरी सुपरवाइजर ने ही कटवाई है। इसी बात को लेकर वह सुपरवाइजर को सबक सिखाना चाहता था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *