छह करोड़ की एम्बरग्रीस के साथ दो तस्कर गिरफ्तार, जिसे व्हेल मछली की उलटी भी कहा जाता है!

छह करोड़ की एम्बरग्रीस के साथ दो तस्कर गिरफ्तार, जिसे व्हेल मछली की उलटी भी कहा जाता है!
Share on social media

mp03.in संवाददाता मुंबई
मुंबई क्राइम ब्रांच ने एक ऐसे गिरोह का पर्दाफाश किया है, जो व्हेल मछली की उल्टी (एम्बरग्रीस)की अवैध खरीद-बिक्री करते थे। ब्रांच ने दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है और उनके पास से 6 किलोग्राम एम्बरग्रीस बरामद की है। जिसकी भारतीय बाजार में कीमत करीब छह करोड़ रूपए आंकी जाती है।

जानकारी के अनुसार मुंबई क्राइम ब्रांच की यूनिट 10 को अपने गोपनीय सूत्रों से यह जानकारी मिली थी कि पवई इलाके में एक कार में दो लोग एम्बरग्रीस की खरीददारी व बिक्री करने के लिए आने वाले हैं।  क्राइम ब्रांच की टीम ने घेराबंदी कर वहां आई एक संदिग्ध कार में सवार दो लोगों को संदेह के आधार पर रोका। जिनकी तलाशी लेने पर करीब 6 किलो एम्बरग्रीस बरामद हुई। कार में सवार  दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया। जानकारी के मुताबिक एम्बरग्रीस का इस्तेमाल कई दवाओं को बनाने में किया जाता है और यह काफी महंगी बिकती है। दोनों आरोपियों को गिरफ्तार करने के बाद क्राइम ब्रांच यह पता करने में लगी हुई है कि यह किसे सप्लाई होनी थी और इस गिरोह में और कौन-कौन से लोग शामिल हैं।

दवा के अलावा कहां किया जाता है इस्तेमाल

एम्बरग्रीस ज्यादातर इत्र और दूसरे सुगंधित उत्पाद बनाने में इस्तेमाल किया जाता है। एम्बरग्रीस से बना इत्र अब भी दुनिया के कई इलाकों में मिल सकता है। प्राचीन मिस्र के लोग एम्बरग्रीस से अगरबत्ती और धूप बनाया करते थे। वहीं आधुनिक मिस्र में एम्बरग्रीस का उपयोग सिगरेट को सुगंधित बनाने के लिए किया जाता है।

प्राचीन चीनी इस पदार्थ को ड्रैगन की थूकी हुई सुगंध भी कहते हैं

ठोस, मोम जैसा ज्वलनशील तत्व होता है। यह हल्के ग्रे या काले रंग का होता है। स्पर्म वेल की आंतों में यह पाया जाता है। पानी के अंदर वेल मछलियां ऐसे कई जीव खाती हैं जिनकी नुकीली चोंच और शेल्स होती हैं। इन्हें खाने पर वेल के अंदर के हिस्से को चोट न पहुंचे इसके लिए Ambergris अहम होता है।
इसे निकालने के लिए कई बार तस्कर वेल की जान ले लेते हैं जो पहले से विलुप्तप्राय जीवों में शामिल है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *