सागर की 10 वीं वाहिनी स्थित शहीद स्मारक पर पुलिस शहीद स्मृति दिवस का आयोजन

सागर की 10 वीं वाहिनी स्थित शहीद स्मारक पर पुलिस शहीद स्मृति दिवस का आयोजन
Share on social media

mp03.in संवाददाता सागर, गजेंद्र सिंह 

10 वीं वाहिनी स्थित शहीद स्मारक पर बुधवार को पुलिस शहीद स्मृति दिवस पर  स्मृति परेड आयोजित की गई।
कार्यक्रम के मुख्य अतिथि एडीजी जेएनपीए के निदेशक सुशोबन बनर्जी द्वारा विगत एक वर्ष में देश भर में आंतरिक सुरक्षा कायम करते हुए कर्तव्य की बलिवेदी में शहीद हुये 264 अधिकारियों व कर्मचारियों के नाम का वाचन कर उन्हें श्रद्धा सुमन अर्पित किए गए।इन शहीदाें में मध्य प्रदेश पुलिस के 7 अधिकारी व कर्मचारियों के नाम भी सम्मलित थे। इसके बाद आईजी सागर जोन अनिल कुमार शर्मा , डीआईजी आरएस. डेहरिया, कलेक्टर दीपक सिंह, एसपी अतुल सिंह, प्रभारी सेनानी 10 वीं बटा , एएसपी बीना विक्रम सिंह, एएसपी सागर विक्रम सिंह कुशवाह, उप सेनानी आरती सिंह एवं जिले की समस्त पुलिस इकाईयों के प्रशासनिक अधिकारियों व सेवानिवृत अधिकारियों समेत उपस्थित तथा शहीदों के परिजनों द्वारा शहीदो को श्रद्धांजली अर्पित की गई ।
अमित कुमार ने किया परेड का संचालन 
परेड का संचालन परेड कमाण्डर अमित कुमार वट्टी द्वारा किया गया तथा सहायक परेड कमाण्डर निरीक्षक पुष्पेन्द्र सिंह मरावी रहे । परेड में जिला बल के प्लाटून का नेतृत्व उप निरी मनीषा तिवारी एवं विसबल के प्लाटून का नेतृत्व उप निरी राहुल पाण्डे के द्वारा किया गया। कार्यक्रम का सफल संचालन सुश्री प्रो ० चन्द्रप्रभा जैन जेएनपीए सागर  द्वारा किया गया।
मप्र के शहीदों की श्रद्धाजंलि 
इस मौके पर  16 जुलाई 1991 में नक्सलवाद क्षेत्र बालाघाट में शहीद हुए आर . स्व . श्रीकृष्ण अहिरवार की पत्नि पुष्पादेवी, स्व . श्री रविन्द्रनाथ दुबे की पत्नि श्रीमति कमला देवी एवं स्व . श्री तारकेश्वर पाण्डे की पत्नि श्रीमति उमादेवी पाण्डे , स्व . श्री रामचरण की पनि श्रीमति धनति बाई . एवं जिला बल सागर के शहीद स्य श्री तेज सिंह चैहान के पुत्र श्री अशोक सिंह चैहान , स्व . श्री शिवलाल कुशवाहा के पुत्र श्री विजय शंकर कुशवाहा , स्व . श्री रामभरोसे के पुत्र श्री चन्द्रभान ज्योतिषी , स्व . श्री मदन दुबे के श्री नितिन दुबे को मुख्य अतिथि के द्वारा सम्मानित किया गया ।
क्यों मनाया जाता है शहीद स्मृति दिवस 
उक्त स्मृति दिवस दिनांक 21 अक्टूबर 1959 को सीमा सुरक्षा बल में तैनात सी.आर.पी.एफ के जवानी पर चीनी फौज द्वारा अचानक हमला किया गया जिससे 10 जवान वीरगति को प्राप्त हुए । तब से प्रतिवर्ष 21 अक्टूबर को पुलिस स्मृति दिवस के रूप में मनाया जाता है । इसमें अलगाववाद , आतंकवाद , नक्सलवाद एवं संगठित अपराध गिरोह से लोहा लेते हुए शहीद हुए सभी राज्यों के एवं केन्द्रीय सुरक्षा बलो के शहीद अधिकारी ध् कर्मचारियो के नाम सम्मिलित कर ष् रोल ऑफ ऑनर ष् पुस्तिका का प्रकाशन किया जाता है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *