इंदाैर पुलिस के नए कंट्रोल रूम का गृहमंत्री ने किया लोकार्पण

इंदाैर पुलिस के नए कंट्रोल रूम का गृहमंत्री ने किया लोकार्पण
Share on social media
 आधुनिक तकनीकों से सुसज्जित नवीन पुलिस कंट्रोल रूम से होगी पुलिस की कार्यक्षमता एवं दक्षता में वृद्धि
mp03.in संवाददाता इंदाैर 
मप्र  पुलिस हाउसिंग काॅर्पोरेशन द्वारा जिला पुलिस बल इन्दौर के लिए बनाए गए अत्याधुनिक सुसज्जित पुलिस कंट्रोल रूम का लोकार्पण बुधवार को गृहमंत्री  नरोत्तम मिश्रा द्वारा किया गया। जिसमें जल संसाधन मंत्री तुलसी सिलावट,  विधायक इंदौर रमेश मेंदोला, पुलिस महानिरीक्षक नारकोटिक्स जी.जी.पांडे, पुलिस उप महानिरीक्षक (शहर) इंदौर हरिनारायणचारी मिश्र, कलेक्टर इंदौर मनीष सिंह, पुलिस अधीक्षक नारकोटिक्स मनोहर मंडलोई, कमाडेंट फर्स्ट बटालियन ओपी त्रिपाठी, पुलिस अधीक्षक (पूर्व) इंदौर विजय खत्री, पुलिस अधीक्षक (मुख्यालय)  सूरज वर्मा, पुलिस अधीक्षक एजेके प्रमोद सिन्हा, एआईजी पुलिस महानिरीक्षक कार्यालय अरविंद तिवारी सहित अन्य गणमान्य नागरिकगण एवं पुलिस अधिकारी/कर्मचारीगण उपस्थित रहे। इस कार्यक्रम में ऑनलाइन रूप से जोन के अन्य एसपी और एडिशनल एसपी भी शामिल रहे।
लोकार्पण के अवसर पर गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि, वर्तमान परिदृश्य में अपराधियों द्वारा नित नयी आधुनिक तकनीको का दुरूपयोग कर, विभिन्न प्रकार के अपराधों, सायबर अपराधों को अंजाम दिया जा रहा है, अतः इनसे निपटने के लिये हमारी पुलिस का आधुनिक होना भी अत्यंत आवश्यक है, ताकि पुलिस भी पूरी तरह से सक्षम होकर इन अपराधियों पर शिकंजा कस सके।
उक्त नवनिर्मित अत्याधुनिक कंट्रोल रूम के बारें में बताते हुए पुलिस उप महानिरीक्षक इंदौर द्वारा बताया गया कि इस कंट्रोल रूम का निर्माण 3890 वर्ग मीटर क्षेत्रफल में किया गया है जिसकी लागत लगभग 7 करोड़ 98 लाख रूपये आई है। उन्होने बताया कि पुलिस की कार्यप्रणाल को और बेहतर बनाने के लिये आधुनिक तकनीको से लैस इस चार मंजिला इमारत में विभिन्न तकनीकी व अन्य शाखाओं का एकीकृत रूप से संचालन किया जावेगा, जिससे निश्चय ही पुलिस की कार्यक्षमता एवं दक्षता में वृद्धि होगी।
  उक्त नवीन कंट्रोल रूम में एक इंटीगे्रटेड फैमिली काउंसलिग सेन्टर का निर्माण किया गया है, जिसमें बुजुर्गो, महिलाओं एवं बच्चों की काउंसलिंग विषय विशेषज्ञों के द्वारा करवायी जावेगी। बलवा ड्रिल का इक्वीपमेंट का स्टोर बनाया गया है, जिनका उपयोग शहर में लाॅ एंड आर्डर की स्थिति में या किसी विशेष परिस्थिति में बेहतर तरीके से किया जा सके, इनके साथ ही बी.डी.डी.एस. के लिये भी एक अत्याधुनिक कक्ष बनाया गया है। इसमें एक पूरा फ्लोर ट्रेफिक के लिये रखा गया है, जिसमें ट्रेफिक मैनेजमंेट संेटर एवं आरएलवीडी आदि सिस्टम सभी को एक साथ किया गया है, जिससे तकनीक के उपयोग से शहर के यातायात को और व्यवस्थित बनाया जा सके। यहां पर पुलिस की जो साइंटिफिक यूनिट्स जैसे एफएसएल, फिंगर प्रिंट, फोटो शाखा सभी को भी एक ही जगह रखा गया है, जिससे और इन सभी के और बेहतर समन्वय के साथ अपराध अनुसंधान की दिशा में बेहतर कार्य किया जा सके। एक फ्लोर पर एक अत्याधुनिक बड़ा कांफ्रेस हाॅल/ट्रेनिंग हाॅल बनाया गया है, जो आधुनिक तकनीकी साधनों से सुसज्जित है, जिससे और बेहतर तरीके से पुलिस को विभिन्न प्रकार की ट्रेनिंग दी जा सकेगी। शहर की भविष्य की आवश्यकताओं को ध्यान में रखते हुए एक अत्याधुनिक सीसीटीवी कंट्रोल रूम भी इस भवन में रखा गया है। पुलिस के वाॅयरलेस सिस्टम, डाॅयल-100 कंट्रोल रूम व वाॅयरेलस रिपेयरिंग लैब भी यहीं पर संचालित होगी, जिससे पुलिस की संचार व्यवस्था और बेहतर कार्य कर सके। यहां पर महिला एवं पुलिस कर्मियों के आवश्यक कार्य से रूकने की सुविधाओं हेतु एक सुव्यवस्थित बैरक का निर्माण भी किया गया है।
हितग्राहियों को राशि बांटी 
सरकार द्वारा अनुसूचित जाति/जनजाति अत्याचर निवारण अधिनियम संबंधित प्रकरणों में हितग्राहियो को राहत राशि प्रदाय की जाती है, जिसके तहत वर्ष 2020 में पूरे इन्दौर ज़ोन में 49658250 रू. (चार करोड़ छियानवे लाख अन्ठावन हजार दौ सौ पचास रू.) की राशि दी जा चुकी है, जिसके तहत ही आज के कार्यक्रम में माननीय गृह मंत्री द्वारा लगभग एक करोड़ 80 लाख रूपयें की राहत राशि संबंधित हितग्राहियों को प्रदाय की गयी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *