गैंगस्टर जीतू सोनी के राजदार नरेंद्र रघुवंशी ने कर ली आत्महत्या !

गैंगस्टर जीतू सोनी के राजदार नरेंद्र रघुवंशी ने कर ली आत्महत्या !
Share on social media

mp03.in संवाददाता इंदौर 

इंदौर के गैंगस्टर जीतू सोनी के राजदार माने जाने वाले नरेंद्र रघुवंशी ने मंगलवार को फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। नरेंद्र रघुवंशी दिसंबर 2019 में  होटल माय होम मामले के आरोपी गैंगस्टर जीतू सोनी के साथ आरोपी थे। नरेंद्र अपने  पिता के बीमार होने के चलते हाल ही में पेरोल पर छूटकर बाहर आए थे।

पुलिस के अनुसार मंगलवार को नरेंद्र ने अपने सुदामा नगर स्थित घर पर फांसी लगाई। पुलिस को मौके से एक सुसाइड नोट भी मिला। इसमें नरेंद्र ने पुलिस और प्रशासन पर छवि खराब करने का आरोप लगाया। मौत के बाद अंगदान करने को भी कहा है। रघुवंशी की मंगलवार को पैराले की मियाद पूरी हो गई थी। जिसके बाद उन्हें वापस जेल जाना था। अन्नपूर्णा थाना पुलिस के अनुसार  नरेंद्र के खिलाफ पलासिया थाना में मानव तस्करी और देह व्यापार का केस दर्ज है। नरेंद्र होटल मायहोम में पश्चिम बंगाल की लड़कियों को बंधक बनाकर उनसे डांस करवाने और देह व्यापार करवाने के आरोप में शामिल था।

खुद की मर्जी से आत्महत्या कर रहा हूं। 
मौके से पुलिस को एक एक सुसाइड नोट मिला है। जिसमें उन्होंने लिखा है कि वह अपनी मर्जी से आत्महत्या कर रहे हैं। इसमें परिवार का कोई दोष नहीं है। उन्होंने लिखा है कि पुलिस-प्रशासन ने मेरे खिलाफ कार्रवाई की, जिससे उनकी  छवि खराब हो गई है। जिसके चलते वह बहुत आहत है। इसी वजह से परेशान होकर जान दे रहा हूं।

अंगदान की अपील

सुसाइड नोट में नरेंद्र ने लिखा है कि मेरे मरने के बाद आंख, दिल, किडनी, लीवर निकालकर किसी जरूरतमंद को दान में दे दी जाए।

 

होटल माय होम पर हुई थी कार्रवाई 
प्रशासन ने 30 नवंबर 2019 की रात जीतू उर्फ जितेंद्र सोनी के गीता भवन स्थित होटल माय होम पर छापा मारा था। यहां से 67 युवतियों को बरामद की गई थीं। इसके बाद पुलिस के पलासिया थाने ने जीतू सोनी और अन्य के खिलाफ मानव तस्करी समेत अन्य धाराओं में केस दर्ज किया था। साथ ही नगर निगम ने जीतू के अवैध बने होटल समेत वैध संपत्तियों को जमींदोज कर दिया था।

28 जून को गुजरात से जीतू को किया था गिरफ्तार 
पुलिस की क्राइम ब्रांच ने घटना के बाद से वह फरार जीतू सोनी को 28 जून को गुजरात में अमरेली जिले से गिरफ्तार किया था। इस केस में जीतू का बेटा और भाई की भी गिरफ्तार हुआ था।

नरेंद्र का सुसाइट नोट

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *