थाना एरोड्रम इलाके में बीते साल हुए अंधे कत्ल का पर्दाफाश, हत्यारे गिरफ्तार

थाना एरोड्रम इलाके में बीते साल हुए अंधे कत्ल का पर्दाफाश, हत्यारे गिरफ्तार
Share on social media
नशे में धुत युवकों ने ही विवाद में कर दी थी अपने ही दोस्त की हत्या
mp03.in संवाददाता  इंदौर
इंदौर के एरोड्रम इलाके में बीते साल अप्रैल में हुई युवक की हत्या की गुत्थी पुलिस ने सुलझा ली है। एरोड्रम पुलिस ने इस अंधे कत्ल की वारदात को अंजाम देने वाले आरोपियों को भी गिरफ्तार कर लिया है।
पुलिस के अनुसार   लंबित मर्गो के निराकरण के लिए आईजी योगेश देशमुख , डीआईजी  शहर हरिनारायणचारी मिश्र एवं एसपी पश्चिम महेश चंद्र जैन के निर्देशन में पुराने प्रकरणों और अनसुलझी वारदातों को सुलझाने का अभियान चलाया जा रहा है। इसी अभियान के तहत थाना एरोड्रम के मर्ग समीक्षा के दौरान पाया गया कि 2 अप्रैल 2019 को  द्वारिकापुरी निवासी योगेश पिता यादवराव बाघमारे की मौत उसके शरीर पर आयी चोटों के कारण हुई थी, जो कि प्रथम दष्ट्या धारा 302 भादवि. का अपराध प्रतीत हो रहा था। मामले की गुत्थी सुलझाने सीएसपी मल्हारगंज एवं थाना प्रभारी राहुल शर्मा द्वारा उक्त तथ्य एसपी पश्चिम महेश चंद्र जैन के संज्ञान में लाया। वरिष्ठ अफसरों के निर्देश पर धारा 302 भादवि. का अपराध पंजीबध्द कर विवेचना में लिया गया । मामले के लिए गठित टीम ने मृतक के परिजन एवं उसके दोस्तों से पूछताछ की। जिसमें पता चला कि मृतक नशा करने का आदि था तथा दोस्तों के साथ नशा करता था । घटना के एक दिन पूर्व आरोपियों का नशा (टिकट) की बात को लेकर मृतक योगेश से विवाद हुआ था।  उक्त तथ्य प्रकाश में आने पर मृतक के दोस्तों पंचवटी नगर निवासी आकाश उर्फ बिट्टू पिता मांगीलाल तंवर और रामवली नगर निवासी कालू उर्फ मूलचंद्र प्रजापत से घटना के संबंध में पुछतांछ की गई। जिन्होंने पुलिस के सख्ती के बाद  अपने तीसरे साथी राकेश मसल्टी के साथ मिलकर योगेश के साथ घटना दिनांक को मारपीट कर हत्या करना स्वीकार कर लिया।
तीसरा साथी जेल में 
आरोपियों को तीसरा साथी राकेश मसल्टी थाना छत्रीपुरा वर्तमान में थाना छत्रीपुरा से अवैध शराब के प्रकरण में जेल में निरूध्द है। आरोपी आकाश ने हत्या की शंका से बचने के लिए मृतक योगेश को स्वयं ऑटों में एमवाय अस्पताल ले जाना भी स्वीकार किया है।
 तीनों आरोपीगण शातिर किस्म के आदतन अपराधी है ।
आरोपी आकाश के विरूध्द विभिन्न थानों में करीबन आधा दर्जन अपराध पंजीबध्द है । आरोपी कालू के विरूध्द थाना मल्हारगंज में हत्या का एक प्रकरण एवं आरोपी राकेश मसल्टी थाना छत्रीपुरा इंदौर का निगरानी बदमाश होकर विभिन्न थानों में एक दर्जन अपराध पंजीबध्द है।
इनकी सराहनीय भूमिका
अंधे कत्ल का पर्दाफाश करने में  थाना प्रभारी एरोड्रम राहुल शर्मा, उनि. बी एस राठौर, सउनि. रविराज सिंह बैस, आरक्षक 2864 कृष्णा पटेल, आरक्षक 1990 पवन पाण्डेय, एवं आरक्षक 2252 अरविन्द सिंह की महत्वपूर्ण भूमिका रही है। पुलिस अधीक्षक पश्चिम द्वारा उक्त टीम को नगद ईनाम से पुरूष्कृत करने की घोषणा की गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *