चलती ट्रेन से गिरा वेंडर, 13 दिन बाद रेलवे ट्रैक के पास मिली लाश!

चलती ट्रेन से गिरा वेंडर, 13 दिन बाद रेलवे ट्रैक के पास मिली लाश!
Share on social media
-चौपड़ा कला के पास से रेलवे ट्रैक किनारे मिला पुराना शव
mp03.in संवाददाता भोपाल
 लापता एक ट्रेन वेंडर का शव रविवार सुबह पुलिस ने  सूखीसेवनिया थाना क्षेत्र स्थित चौपड़ा कला के पास से बरामद किया है।  मृतक वेंडर गत 6 दिसंबर से लापता था, जोकि  ट्रेन में ड्यूटी पर आखिरी बार घर से बीना गया था। परिजन उसकी गुमशुदगी भी जीआरपी में करा चुके थे। रविवार दोपहर परिजन से शिनाख्त कराने के बाद पुलिस ने मृतक का शव पीएम के लिए भेज दिया है।
पुलिस के अनुसार  हिनौतिया अशोका गार्डन निवासी 42 साल जीतेंद्र सिंह उर्फजीतू पिता नरेश रजावत (ठाकुर) ट्रेन की केंटीन में वेंडर की नौकरी करता था। जीतू परिवार में बड़ा था, जबकि उसके दो छोटे भाई और एक बहन है। जीतू के भाई गोविंद राजपूत ने बताया कि 6 दिसंबर की सुबह वह पठानकोट से भोपाल लौटा था। दिन भर घर में रहने के बाद शाम को वह फिर अपने काम पर निकल गया। इसके बाद शाम से ही उसके मोबाइल पर संपर्क नहीं हो सका। लगातार कॉल करने पर भी मोबाइल पर संपर्क नहीं होने से परेशान होकर जीआरपी पुलिस थाने में जीतू की गुमशुदगी दर्ज कराई गई। जीतू के मोबाइल की टावर लोकेशन निकाली गई गई तो लोकेशन सूखीसेवनिया के आसपास मिली थी। जीआरपी और परिजन जीतू की गत 7 दिसंबर से से तलाश कर रहे थे, लेकिन कुछ पता नहीं चल सका।
तेरह दिन बाद मिली लाश
रविवार सुबह सूखीसेवनिया पुलिस को चौपड़ा कला के पास पुलिस को किसी की लाश पड़ी होने की सूचना मिली थी। थाना प्रभारी वीबीएस सेंगर ने लाश पुरानी थी। मृतक के शरीर पर वेंडर की तरह कपड़े थे और पुलिस ने जीआरपी से संपर्ककिया इस दौराना पता चला कि मृतक जीतू ठाकुर है। पुलिस ने परिजन को शव दिखाया और परिजन ने उसकी पहचान कर ली। लाश रेलवे ट्रैक से थोड़ी दूरी पर पड़ी होने के कारण ट्रेन में सफर करने वालों को नजर नहीं आई। ट्रेन से गिरने के कारण जीतू के दोनों पैर और बांया हाथ कट गया था। परिजन ने किसी पर संदेह नहीं जताया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *