चार बार रिक्रिएशन कर चुकी पुलिस, उधारी तक सिमटी जांच

चार बार रिक्रिएशन कर चुकी पुलिस, उधारी तक सिमटी जांच
Share on social media

mp03.in संवाददाता भोपाल 

ओरिएंटल कालेज के बीटेक के छात्र निशांक राठौर की मौत के मामले में एसआईटी चार बार घटना का रिक्रिएशन कर चुकी है, लेकिन अंतिम निर्णय तक नहीं पहुंच सकी है। पुलिस की जांच सिर्फ उधारी तक आकर टिक गई है। अब तक की जांच में सामने आया है कि उसने अभी तक अपने एक दर्जन दोस्तों से उधर लेकर क्रिप्टो करंसी में इन्वेस्ट किया था। अब पुलिस सिर्फ परिजनों को सबूत के साथ संतुष्ट करने की तैयारी कर रही है कि उनके बेटे ने खुदकुशी की है। पुलिस ने टीटी नगर से लेकर मंडीदीप होते हुए मिडघाट रेलवे टैÑक तक पहुंची थी। मामले की गंभीरता को देखते हुए गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने एसआईटी गठित की थी। पुलिस सूत्रों की माने तो उसने कभी इस प्रकार की आपत्तिजनक पोस्ट नहीं की है। वह क्रिप्टोकरेंसी में निवेश करता था। उसके घर से एक लैपटाप भी जब्त किया गया है। गौतरलब है कि सिवनी मालवा के रहने वाले 20 साल का निशांक राठौर का शव रविवार छह बजे के करीब बरखेड़ा मिडघाट रेलवे लाइन के करीब उसका शव मिला था। पास में ही उसका मोबाइल पड़ा हुआ था। सड़क किनारे उसकी स्कूटी खड़ी हुई थी। उसके पास से सुसाइड नोट नहीं मिला है। छात्र के बारे में पता चला है कि उसकी बाइक को उसके पिता ने रखवाने के बाद वह भोपाल से दो दिन से किराये पर स्कूटी लेकर निकला था। वह भोपाल से करीब 50 किमी तक बाइक चलाकर घटनास्थल तक पहुंचा था। जहां उसके साथ किसी ने नहीं देखा। जांच के दौरान क्रिप्टोकरेंसी की निवेश की जानकारी मिली है। पुलिस कोई भी एंगल को इस मामले की जांच में छोड़ना नहीं चाहती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.