माननीयों की फर्जी नोटशीट से ट्रांसफर की अनुशंसा करने वाले की क्राइम ब्रांच को तलाश

माननीयों की फर्जी नोटशीट से ट्रांसफर की अनुशंसा करने वाले की क्राइम ब्रांच को तलाश
Share on social media
mp03.in संवाददाता भोपाल 
प्रदेश में मंत्री, सांसदों और विधायकों समेत अन्य माननीयों के फर्जी नोटशीट लिखकर सरकारी कर्मचारियों के ट्रांसफर की अनुशंसा करने वाले जालसाज की क्राइम ब्रांच ने तलाश शुरु करी दी है। इस मामले में अब  क्राइम ब्रांच दो तहसीलदार, 20 शिक्षक और शासकीय कर्मचारियों से पूछताछ करेगी। यह वहीं कर्मचारी हैं, जिनके ट्रांसफर के लिए फर्जी नोटशीट्स अनुशंसा पत्र के साथ  सीएम हाउस तक पहुंची थी। जोकि बाद में फर्जी निकली थीं।
पुलिस अफसरों ने सांसदा साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर समेत तीन सांसद और विधायक से बातचीत कर उसकी तस्दीक भी कर ली है। पुलिस का कहना है कि कर्मचारियों से पता किया जाएगा कि उन्होंने किस व्यक्ति के माध्यम से नोटशीट बनवाई थी। जिससे पुलिस उन तक पहुंच सके। क्राइम ब्रांच के अनुसार सीएम हाउस से धोखाधड़ी किए जाने की शिकायत आई थी। मिली है। इसमें स्वास्थ्य विभाग, स्कूल शिक्षा और राजस्व विभाग के करीब 12 कर्मचारियों के ट्रांसफर की नोटशीट भेजी गई।
इसमें नाम की बनीं फर्जी नोटशीट 
भोपाल सांसद प्रज्ञा, राजगढ़ सांसद रोडमल नागर, देवास सांसद महेंद्रसिंह सोलंकी और रायसेन जिले के सिलवानी विधायक रामपाल सिंह का नाम है।
इन कर्मचारियों की बनीं नोटशीट
दो-तीन तहसीलदार, 20 शिक्षक, क्लर्क समेत अन्य कर्मचारियों के नाम सामने आ चुके हैं। उन्हें नोटिस देकर बुलाया गया है, और अब उनसे ही पूछताछ में पूरे मामले का खुलासा हो सकेगा।
इनका कहना
अभी तक मामले में एफआईआर दर्ज नहीं की गई है। पहले कर्मचारियों से पूछताछ कर बयान दर्ज कर ले, उसके बाद एफआईआर दर्ज की जाएगी। कर्मचारियों से पूछताछ मे साफ हो जाएगा कि उन्होंने किस व्यक्ति के माध्यम से नोटशीट बनाई है, या उन्होंने ही फर्जीवाड़ा किया है। फिलहाल पुलिस मामले की पड़ताल में लगी हुई है।
गोपाल धाकड़, एडिशनल एसपी क्राइम ब्रांच 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *