एसपी साउथ पहुंचे पीड़िता से मिलने, एसआईटी ने की आधा दर्जन से पूछताछ !

एसपी साउथ पहुंचे पीड़िता से मिलने, एसआईटी ने की आधा दर्जन से पूछताछ !
Share on social media

mp03.in संवाददाता भोपाल 

डीआइजी इरशाद वली और कलेक्टर अविनाश लवानिया के बाद शनिवार को कोलार निर्भयाकांड की पीड़िता से मुलाकात करने साउथ एसपी सांईकृष्ण थोटा उसके घर पहुंचे। जहां एसपी थोटा ने पीड़िता से घटनाक्रम का विस्तार जाना और परिजनों से चर्चा की। इधर, मामले की जांच के लिए गठित एसआईटी ने शनिवार को पीड़िता को घटनास्थल से उठाकर अस्पताल ले जाने वाली जेके अस्पताल के दो मेडिकल छात्राओं समेत आधा दर्जन लोगाें के बयान दर्ज कर पूछताछ की। सूत्रों की मानें तो पीड़िता को अस्पताल ले जाने वाली छात्राओं ने बताया कि 16 जनवरी की शाम वह सड़क से गुजर रहीं थी। उन्होंने पीड़िता के कराहने की आवाज सुनी और तत्काल अपने एक दोस्त को फोन कर कार मंगाई। इसी कार में पीड़िता को उठाकर जेके अस्पताल ले गई थीं। लेकिन अस्पताल कोविड सेंटर था, ऐसे में तत्काल वहां से एम्स अस्पताल ले जाकर भर्ती कराया।

एसआईटी पीड़िता के फिर लेगी बयान 

सूत्रों ने बताया कि छात्रा ने घटना के बाद जो बयान दिए थे तथा अब जो बात उसने कही है दोनों में अंतर है इसलिए एसआईटी फिर से बयान लेगी। साथ ही एफएसएल द्वारा जुटाए गए साक्ष्यों की फिर से समीक्षा की जाएगी।

यह थी घटना 
जेके अस्पताल के पास 16 जनवरी की शाम पैदल जा रही  छात्रा के साथ नशे में धुत बदमाश ने छेड़छाड़ की। जिसके बाद छात्रा ने  विरोध किया तो बदमाश ने उसे धक्का दे दिया था। जिसके कारण छात्रा नाले में गिर गई थी। छात्रा ने जब शोर मचाना शुरू किया तो बदमाश ने उस पर पत्थर पटक दिया था। पुलिस ने इस मामले में छेडख़ानी और मारपीट का प्रकरण दर्ज कर आरोपी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। अस्पताल में भर्ती पीड़िता की रीढ़ की हड्डी टूटने के कारण उसकी हालत गंभीर बनी हुई थी। हालही में पीड़िता डिस्चार्ज होकर घर आ गई है। मामला उजागर होने के बाद आरोपी के खिलाफ रेप की कोशिश और जानलेवा हमला करने की धाराएं जोड़ दी गई है।

एसआईटी गठित

साथ ही पूरे मामले की जांच के लिए एसआईटी गठित कर दी गई। एसपी साईं कृष्ण थोटा के मार्गदर्शन में काम करने वाली एसआईटी का प्रमुख सीएसपी हबीबगंज भूपेन्द्र सिंह को बनाया गया है। एसआईटी ने  दर्ज हुए मामले की विवेचना करने वाली महिला एसआई से सभी तरह के दस्तावेज मांगे गए हैं। हालांकि वे खुद भी एसआईटी की सदस्य हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *