बंद गृह निर्माण सोसायटी का धोखे से खरीदने वाले वकील पर रिटायर जज ने कराई एफआईआर दर्ज

बंद गृह निर्माण सोसायटी का धोखे से खरीदने वाले वकील पर रिटायर जज ने कराई एफआईआर दर्ज
Share on social media

mp03.in संवाददाता भोपाल 
कमला नगर इलाके की पॉश कॉलोनी की बंद गृह निर्माण समिति में जालसाजी कर प्लाट खरीदने वाले वकिल के खिलाफ पूर्व न्यायाधीश ने  धोखाधड़ी का प्रकरण दर्ज कराया है। इस मामले में पुलिस ने वकील के साथ ही समिति के तत्कालीन अध्यक्ष, जमीन बेचने वाली महिला को भी आरोपी बनाया है।
कमला नगर थाना प्रभारी विजय सिंह सिसौदिया ने बताया कि लालजी शर्मा पूर्व न्यायाधीश हैं। उनका ऋषि परिसर में मकान है। ऋषि परिसर कॉलोनी की गृह निर्माण समिति के अध्यक्ष मोहन राव थे। उन्होंने ही समिति के सदस्यों को प्लॉट आवंटित किए थे। 2017 में राजकुमार पाण्डेय ने भी एक प्लॉट शीला पिल्लई से खरीदा। जिस प्लॉट को पाण्डेय ने खरीदा वह लालजी शर्मा के मकान के पास है, उसी प्लॉट में बोरिंग है। पाण्डेय ने प्लॉट खरीदने के बाद बोरिंग से पानी देना लोगों को बंद कर दिया। इसी को लेकर लालजी शर्मा और राजकुमार पाण्डेय में विवाद चल रहा था। थाना प्रभारी ने बताया कि कॉलोनी काटने वाली गृह निर्माण समिति को वर्ष 2013 में सहकारिता विभाग ने बंद कर दिया। इसके बाद उक्त समिति के प्लॉटों की खरीद-बिक्री बिना विभागीय अनुमति के नहीं हो सकती थी। वर्ष 2017 में शीला पिल्लई ने अपना अपना प्लॉट राजकुमार पाण्डेय को बेच दिया। इसकी रजिस्ट्री के समय समिति के तत्कालीन अध्यक्ष मोहन राव ने स्थाईत्व प्रमाण-पत्र बनाकर दिया कि राजकुमार पाण्डेय उक्त समिति के वर्ष 2009 से सदस्य हैं। इसी आधार पर पाण्डेय को प्लॉट दिया गया था। विवाद होने पर लाजजी शर्मा ने जब शिकायत की, इसके बाद सहकारिता विभाग से दस्तावेज मांगे गए। सहकारिता विभाग ने जांच के अपनी रिपोर्ट में स्पष्ट रूप से लिखा कि जब वर्ष 2009 के दस्तावेज में राजकुमार पाण्डेय गृह निर्माण समिति के सदस्य नहीं थे। वर्ष 2013 में जब समिति को बंद किया गया, तब भी पाण्डेय समिति के सदस्य नहीं थे। जांच के बाद स्पष्ट हो गया कि गृह निर्माण समिति के अध्यक्ष मोहन राव, प्लॉट की मालिक शिला पिल्लई ने फ र्जी दस्तावेज तैयार कर 2017 में पाण्डेय को प्लॉट बेचा है। इस आधार पर तीनों के खिलाफ धोखाधड़ी की विभिन्न धाराओं के तहत प्रकरण दर्ज कर विवेचना शुरू कर दी गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *