सांसद साध्वी प्रज्ञा को सेक्सटॉर्शन में फंसाने की साजिश रचने वाले सगे भाई राजस्थान से गिरफ्तार

सांसद साध्वी प्रज्ञा को सेक्सटॉर्शन में फंसाने की साजिश रचने वाले सगे भाई राजस्थान से गिरफ्तार
Share on social media
mp03.in संवाददाता भोपाल 
भोपाल सांसद साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर को वीडियो कॉल कर सेक्सटॉर्शन में फंसाने का साजिश करने वाले दो सगे आरोपी भाईयों को पुलिस ने राजस्थान के  भरतपुर से गिरफ्तार कर लिया। आरोपियों ने वीडियो कॉल कर अश्लील क्लिप चलाया और एक फर्जी वीडियो बना लिया था। आरोपी भाइयों को ट्रांजिस्ट वारंट पर राजस्थान से पुलिस लेकर भोपाल आ गई है।
पुलिस उपायुक्त क्राइम अमित सिंह के अनुसार आरोपी भाईयों को  मंगलवार की दोपहर बाद भोपाल लाया जा चुका है।  उनसे पूछताछ की जा रही है।  राजस्थान पुलिस की सूचना पर भोपाल पुलिस की टीम वहां गई थी। अमित सिंह ने बताया कि सांसद साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने 6 फ रवरी को भोपाल की टीटी नगर पुलिस को सेक्सटॉर्शन कॉल आने की शिकायत की थी। उन्होंने बताया था कि शाम करीब 7 बजे उनके मोबाइल पर वॉट्सअप कॉल आया था। वीडियो कॉल रिसीव करते ही एक लड़की दिखाई देने लगी। कुछ सेकंड बाद ही उसने कपड़े उतारना शुरू कर दिया। फोन काटने के कुछ देर बाद वाट्सअप पर उन्हें मैसेज आया। जिसमें फोटो वायरल करने की धमकी दी गई। आरोपियों ने साध्वी प्रज्ञा को कॉल करके धमकी भी दी थी। टीटी नगर पुलिस ने एफआईआर दर्ज की थी। उसके बाद मामला जांच के लिए साइबर क्राइम भोपाल के पास आ गया था। मुख्य रूप से इस तरह के गिरोह झारखंड में सक्रिय हैं, लेकिन यह कॉल राजस्थान से आए थे। फोन करने वाले नंबरों को ट्रेस किया गया। यह दोनों नंबर राजस्थान के निकले। लोकेशन भरतपुर जिले के सीकरी की निकली। भोपाल पुलिस की सूचना पर राजस्थान पुलिस ने सोमवार को दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया।  राजस्थान पुलिस की सूचना पर भोपाल पुलिस की टीम भी भरतपुर पहुंच गई और आरोपियों को भोपाल लाया गया।
इनका कहना
चंदा का बास गांव निवासी दो सगे भाइयों रवीन खान और वारिस खान पुत्र छुटमल मेव को गिरफ्तार किया है। दोनों ने व्हाट्सएप पर वीडियो कॉल  कर सांसद प्रज्ञा ठाकुर से संपर्क वीडियो वायरल करने की धमकी देकर रुपयों की डिमांड की गई थी। आरोपियों को भोपाल पुलिस को सौंप दिया गया है।
श्याम सिंह, एसपी भरतपुर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *