रेलवे नेता ने साथी के साथ मिलकर रेलवे गेस्ट हाउस में युवती से किया गैंग रेप

रेलवे नेता ने  साथी के साथ मिलकर रेलवे गेस्ट हाउस में युवती से किया गैंग रेप
Share on social media
mp03.in संवाददाता भोपाल 
रेलवे स्टेशन स्थित गेस्ट हाउस में शनिवार दोपहर डब्ल्यूसीआरएमएस (वेस्ट सेंट्रल रेलवे मजदूर संघ) क का मंडल उपाध्यक्ष अपने साथी के साथ मिलकर कोल्ड्र्रिंक्स में नशीला पदार्थ मिलाकर एक  युवती के साथ गैंग रेंप कर फरार हो गया।  होश में आने के बाद युवती जीआरपी थाने पहुंची, जहां उसने आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज कराया। जीआरपी पुलिस ने आरोपियों को गिरफ्तार कर रविवार को जेल भेज दिया।
जीआरपी पुलिस के अनुसार महोबा, उत्तर प्रदेश निवासी 22 वर्षीय युवती की डब्ल्यूसीआरएमएस (वेस्ट सेंट्रल मजदूर संघ) के मंडल उपाध्यक्ष और सेफ्टी काउंसलर राजेश तिवारी से परिचय था। युवती कई महीनों से राजेश तिवारी से नौकरी के संबंध में बातचीत कर रही थी। राजेश के आश्वासन के बाद युवती शनिवार की सुबह भोपाल एक्सप्रेस से भोपाल पहुंची थी। ट्रेन से उतरने के बाद उसे राजेश तिवारी एक नंबर प्लेटफार्म के उपर स्थित पहली मंजिल पर बने वीआईपी गेस्ट रूम में लेकर पहुंचा। जहां युवती को ठहराकर चला गया।  सुबह करीब ग्यारह बजे राजेश अपने एक साथी आलोक मालवीय को लेकर दोबारा गेस्ट हाउस पहुंचा। उन्होंने युवती को कोल्ड ड्रिंक्स पिलाई, जिसके बाद वह बेहोश हो गई। दोनों आरोपियों ने बेहोश युवती के साथ बारी-बारी से दुष्कर्म किया। इसके बाद युवती को आरोपी कमरे छोड़कर फरार हो गए। दोपहर करीब तीन बजे युवती को होश आया तो वह जीआरपी थाने पहुंची और अपने साथ हुई घटना की जानकारी दी। इसके बाद पुलिस ने राजेश और आलोक मालवीय  के खिलाफ केस दर्ज कर लिया। शनिवार देर रात जीआरपी पुलिस ने दोनाें आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया। जिन्हें रविववार को न्यायालय पेश कर जेल भेज दिया गया।
रिश्तेदार के माध्यम से हुई थी युवती की पहचान
पीड़िता के एक रिश्तेदार झांसी में रहते हैं। जिसके माध्यम से उसकी राजेश तिवारी से पहचान हुई थी। उनके बीच करीब तीन महीने से बातचीत चल रही थी।
सीसीटीवी देखकर दूसरे आरोपी की पहचान 
पीडिता सिर्फ रेलवे नेता राजेश को जानती थी, लेकिन उसके साथ पहुंचे दूसरे व्यक्ति को वह नहीं पहचानती है।  पुलिस ने स्टेशन पर लगे सीसीटीवी कैमरों के फुटेज निकाले गए हैं। जिसमें राजेश और युवती के अलावा स्टेशन का मैकेनिकल प्रभारी आलोक मालवीय नजर आया। जिसके  आधार पर पुलिस ने उसे नामजद कर लिया।
आरक्षित कमरों में अय्याशी करने रेलवे कर्मचारी 
रेलवे स्टेशन पर बनीं रेलवे का रेस्ट हाउस के दर्जनभर कमरे हैं। करीब दो साल पहले इन कमरों को आईआरसीसीटीसी के हैंड ओवर कर दिया गया था। जबकि दो कमरों को रेलवे ने अपने पास आरक्षित रखा था। सूत्रों की मानें तो इन कमरों को इस्तेमाल रेलवे नेता अक्सर शराब पार्टी और अय्याशियों के लिए करते हैं। रेलवे नेता अपना रौब झाड़कर  इन कमरों की बुकिंग भी नहीं करते, बगैर बुकिंग के केयरटेकर से चाबी ले लेते हैं।
कोट्स 
पीडिता राजेश तिवारी की परिचित है, दूसरे आरोपी को सीसीटीवी के आधार पर चिन्हित किया गया है। दोनों  आरोपियों की गिरफ्तारी कर ली गई है। जिन्हें जेल भेज दिया गया है।
एनके रजक, जीआरपी डीएसपी 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *