सोफा बेचने का झांसा देकर युवक को 3 हजार 789 रूपए की चपत

सोफा बेचने का झांसा देकर युवक को 3 हजार 789 रूपए की चपत
Share on social media
mp03.in संवाददाता भोपाल 
पुराना सोफासेट बेचने का झांसा देकर जालसाज ने एक युवक को 3 हजार 789 रूपए की चपत लगा दी। पीड़ित की शिकायत पर पुलिस ने आठ महीने बाद अज्ञात जालसाज के खिलाफ मामला दज्र कर लिया है।
पुलिस के अनुसार काली मंदिर मंदिर के पास टीला जमालपुरा निवासी सागर निर्माण (24) ने दिसंबर 2020 में एक सोफा सेट का विज्ञापन देखा था। सागर ने दिए गए नंबर पर संपर्क किया तो सौदा 3 हजार 789 रुपये में तय हो गया। उन्होंने बताए गए एकाउंट में रुपये ट्रांसफ र कर दिए, लेकिन संबंधित व्यक्ति ने उन्हें सोफा सेट नहीं भेजा। बाद में उसने अपना नंबर भी बंद कर लिया। सागर ने सायबर क्राइम में शिकायत की थी। प्रतिवेदन थाने पहुंचने के बाद पुलिस ने अज्ञात जालसाज के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज कर लिया है।
 जालसाज ने प्रोफेसर के खाते से 95 हजार निकाल लिए
 अयोध्या नगर थाना क्षेत्र स्थित सागर इंजीनियरिंग कॉलेज के एक प्रोफेसर को जालसाज ने रिश्तेदार बनकर एक रिश्तेदार को पैसे भेजने के नाम पर क्यूआर कोड स्कैन करा दिया। क्यूआर कोड स्कैन करते हुए प्रोफेसर केखाते से 95 हजार रुपए कट गए। पुलिस ने धोखाधड़ी और आईटी एक्ट की धाराओं के तहत प्ररकण दर्ज कर लिया है। अयोध्या नगर थाना पुलिस के अनुसार केशव मिश्रा मूलत: बाहर के रहने वाले हैं और सागर इंजीनियरिंग कॉलेज में प्रोफेसर हैं। उन्हें 30 मई को एक अनजान व्यक्ति ने फोन कर कहा कि मैं तुम्हारा रिश्तेदार हूं। किसी अन्य रिश्तेदार को पैसे भेजने हैं तो मैं तुम्हारे खाते में पैसे भेज देता हूं, तुम पैसे निकालकर दूसरे रिश्तेदार को दे देना। संयोग से जालसाज ने अपना नाम और परिचय ऐसे दिया कि फरियादी केशव मिश्रा को लगा कि यह वास्तव में मेरा रिश्तेदार है। जालसाज ने कहा कि मैं आपके मोबाइल पर एक क्यूकार कोड भेज रहा हूं। उस कोड को स्कैन कर लेना तो आपके खाते में पैसे आ जाएंगे। जालसाज ने इस तरह बातों में उलझाकर फरियादी के मोबाइल पर दो बार क्यूआर कोड भेजा। फरयिादी ने दोनों क्यूआर कोड स्कैन कर दिया तो उसके खाते से पहली बार में 44999 और दूसरी बार 49999 हजार रुपए कट गए। फरियादी को ठगी का अहसास होने पर उसने साइबर सेल में शिकायत की थी। पुलिस ने शिकायत जांच के बाद धोखाधड़ी का प्रकरण दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *