कोर्ट के कहने पर सगी बेटी ने दी हत्यारी मां को सजा-ए-मौत!

कोर्ट के कहने पर सगी बेटी ने दी हत्यारी मां को सजा-ए-मौत!
Share on social media
mp03.in वर्ल्ड क्राइम डेस्क (तेहरान)
 कट्टरपंथी इस्लामिक देश ईरान में एक बेटी ने अपनी सगी मां की गोली मारकर सजा-ए-मौत दे दी। हालांकि बेटी को ऐसा अपराध करने के बावजूद कोई सजा नहीं होगी, क्योंकि इस देश के कानून ने ही इस सगी बेटी को ऐसा अपराध करने की आजादी और अनुमति

 दी थी।
जीहां, मौजूदा 2021 की 13 मार्च को मरियम करीमी को उसकी बेटी ने गोली मार दी।  मृतका बीते करीब दस साल से जेल में थी। मृतका ने करीब 13 साल पहले अपने पिता इब्राहिम के साथ मिलकर अपने पति की हत्या की थी। मरियम ने अदालत को बताया था कि वह पति के अत्याचारों से तंग आ गयी थी. वह उसे बुरी तरह मारता-पीटता था. मरियम उसे
फूटी आँख भी नहीं सुहाती थी, मगर पति उसे तलाक देने के लिए भी राजी नहीं हो रहा था। इससे तंग आकर उसने पति की जान ले ली। इस वारदात के समय मरियम की बेटी महज  छह साल की थी।
इसी मार्च महीने में एक अदालत ने मरियम को गोली मारकर उसकी जान लेने का आदेश सुनाया। दिल दहला देने वाली इस खबर का दुखद पहलू यह है कि अदालत ने हत्यारी मरियम को गोली मारने के लिए उसकी सगी बेटी को ही चूना।  ऐसा इस देश के कानून ‘क़िसास’ के तहत किया गया। जिसमें इस कानून का प्रावधान है कि यदि किसी की जान ली
 गयी है तो उसके परिजन खुद हत्यारे को मौत की सजा दे सकते हैं।
बेटी ने भी लिया गोली मारने का फैसला 
मरियम की बेटी ने भी यही करने का फैसला किया। ईरान में मानवाधिका
क़िसास कानून ‘आँख के बदले आँख’ की तर्ज पर चलता है और दुनिया के कई देश इसके लिए ईरान की लगातार निंदा करते आ रहे हैं. ईरान में सन 2019 में इस कानून के तहत 225 अपराधियों की जान ले ली गयीर से जुड़े एक संगठन ने इस घटना पर चिंता जताई है। उसने कहा, ‘हत्या के बाद से ही मरियम की बेटी को यह कहते हुए बड़ा किया गया कि उसे एक मर्द (उसके पिता) की हत्या करने वाली औरत (उसकी माँ) की जान लेने का सौभाग्य मिलेगा।’ इस बेटी ने अपनी माँ की पूरी कहानी सुनने के बावजूद उससे माफ़ करने से इंकार कर दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *