लापता बीटैक छात्र का शव मिडघाट रेलवे ट्रैक से बरामद

लापता बीटैक छात्र का शव मिडघाट रेलवे ट्रैक से बरामद
Share on social media

mp03.in संवाददाता भोपाल 

 राजधानी से एक दिन पहले लापता बीटैक छात्र का शव पुलिस ने भोपाल-नर्मदापुरम रोड पर स्थित मिडघाट के पास रेलवे ट्रैक से बरामद किया है। घटनास्थल से उसका  मोबाइल और स्कूटी भी बरामद की है, स्कूटी मृतक ने किराए पर ली थी। मृतक के नाम से बनी इंस्टाग्राम आईडी से उसके पिता और दोस्त के वाट्सएप पर एक स्क्रीनशॉट भेज गया। जिसमें छात्र की फोटो को क्रास कर लिखा है, गुस्ताख-ए-नबी की एक ही सजा, सिर तन से जुदा…। घटना की गंभीरता को देखते हुए आईजी नर्मदापुरम, डीआईडी और एसपी रायसेन रात में ही बरखेड़ा पुलिस चौकी पहुंच गए थे। जबकि डीजीपी सुधीर सक्सेना खुद पूरे मामले पर नजर बनाए हुए हैं। पुलिस ने शव का पंचनामा बनाकर पीएम के लिए भेज दिया है।
एसपी विकास कुमार सहवाल के अनुसार  ओबेदुल्लागंज थाना पुलिस की बरेखेड़ा पुलिस चौकी को कल रात नर्मदापुरा रोड स्थित मिडघाट के पास रेलवे ट्रेक पर एक युवक के शव पड़े होने की सूचना मिली थी। इसके बाद पुलिस ने रेलवे ट्रेक के पास से युवक का शव बरामद किया। जिसकी पहचान मूलत: सिवनी मालवा निवासी निशांक राठौर पुत्र उमाशंकर(20) के रूप में की गई। निशांक एक निजी कॉलेज मेें बी.टेक का छात्र था। पुलिस को उसके पास से कोई सुसाइड नोट नहीं मिला है।
पिता और दोस्त को मिला फोटो-मैसेज
रात 8 बजे उसके पिता और दोस्तों के पास उसके मोबाइल से उसका फोटो लगा मैसेज आया। मैसेज पढ़कर घबराए पिता ने बेटे के दोस्तों को फोन किया। दोस्त राज, चचेरे भाई शशांक ने देर रात टीटी नगर थाने पहुंचकर उसकी गुमशुदगी दर्ज कराई। इससे पहले ओबेदुल्लागंज थाना पुलिस उसका शव बरामद कर चुकी थी। निशांक के पिता उमाशंकर राठौर हरदा में सहकारिता विभाग में पदस्थ हैं। घटना की जानकारी लगने के बाद देर रात वह भी बरखेड़ा पुलिस चौकी पहुंचे। बेटे का शव देखने के बाद उनकी तबीयत बिगड़ गई।
बहन से मिलने निकला था छात्र-
निशांक  दो साल तक इंद्रपुरी स्थित हॉस्टल में रहा। इसके बाद जवाहर चौक शास्त्री नगर में दोस्तों के साथ किराए के मकान में रहने लगा था। रविवार दोपहर करीब तीन बजे वह साकेत नगर में परीक्षा देने पहुंची अपनी बहन से मिलने निकला था। छात्र दो बहनों का इकलौता भाई था। पुलिस को अंदेशा है कि ट्रेन की चपेट में आने से उसका एक पैर शरीर से अलग हो गया। जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई।
छात्र के मोबाइल की होगी जांच
पुलिस इस बात का पता लगा रही है कि स्टूडेंट की मौत के बाद उसका मोबाइल कौन आपरेट कर रहा था। छात्र दो बहनों में इकलौता भाई था। मृतक के दोस्तों ने बताया कि छात्र के मोबाइल, इंस्टाग्राम, फेसबुक आईडी की जानकारी उसके एक दोस्त प्रखर को थी। पुलिस प्रखर से पूछताछ कर रही है। पुलिस इसे सुसाइड मान रही है।
सीसीटीवी में अकेला जाता दिखा छात्र
पुलिस ने भोपाल से रायसेन के बीच के सीसीटीवी फुटेज खंगाले। इनमें निशांक अकेले ही स्कूटी से जाते हुए दिख रहा है। पुलिस ने मंडीदीप तक के फुटेज चेक किए, जिसमें वह अकेला ही दिखा। टीटी नगर टीआई चैन सिंह रघुवंशी ने बताया कि रास्ते में उसने 450 रुपए का एक पेट्रोल भराया, तब भी वह अकेला था। बरखेड़ा के पास तक वह अकेला ही स्कूटी से मिडघाट की ओर जाते हुए दिखाई दिया है। वह 480 रूपए प्रतिदिन के हिसाब से स्कूटी किराए पर लेकर चलाता था।
3 बजे के बाद फोन रिसीव करना किया बंद
निशांक के चचेरे भाई शशांक ने बताया कि उसने अपने दोस्त राज से रविवार दोपहर 12 बजे फोन पर बात की थी। इसके बाद उसकी अपने पापा से बात हुई थी। शशांक का कहना कि देर शाम जब हम लोगों ने फोन लगाया तो रिसीव नहीं हुआ। यह सिलसिला देर रात तक चला। जब पता चला कि उसका शव रायसेन में मिला है, तब भी उसका फोन चालू था। शुरूआती जांच में पता चला है कि छात्र  शेयर बाजार में निवेश करता था। आशंका है कि उसे घाटा लगा होगा और वह तनाव में आ गया होगा। हालांकि, अभी पीएम रिपोर्ट समेत अन्य तथ्यों की जानकारी जुटाने के बाद ही उसकी मौत की वजह का खुलासा हो सकेगा। पुलिस हर पहलुओं से जांच कर रही है।
इनका कहना है
प्रारंभिक जांच में छात्र के नाम से बनी आईडी से एक पोस्ट होने की पुष्टि हुई है। मोबाइल की जांच के बाद ही यह पता चल सकेगा कि छात्र के मोबाइल से यह पोस्ट की गई या फिर किसी दूसरे मोबाइल से आईडी ओपन कर पोस्ट अपलोड की गई। आज छात्र का पीएम होगा। डीआईजी और एसपी की निगरानी में पूरे मामले की जांच  की जा रही है।
दीपिका सूरी, आईजी नर्मदापुरम रेंज

Leave a Reply

Your email address will not be published.