सीधी मामले में मानव अधिकार आयोग ने डीजीपी व रीवा आईजी से मांगा एक सप्ताह में जबाव

सीधी मामले में मानव अधिकार आयोग ने डीजीपी व रीवा आईजी से मांगा एक सप्ताह में जबाव
Share on social media
-सीधी जिले का मामला-
स्थानीय विधायक के खिलाफ खबर प्रसारित करने पर 8 को थाने में अर्धनग्न किया गया था 
– आयोग ने कहा – डीजीपी व आईजी रीवा एक सप्ताह में दें जवाब
mp03.in संवाददाता भोपाल/रीवा  
सीधी जिले के कोतवाली थाने में पत्रकार समेत आठ लोगों को अर्धनग्न कर फोटो सोशल मीडिया पर अपलोड कर वायरल किए जाने के मामले में मप्र मानव अधिकार आयोग ने संज्ञान ले लिया है। मध्यप्रदेश मानव अधिकार आयोग के माननीय अध्यक्ष न्यायमूर्ति श्री नरेन्द्र कुमार जैन ने पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) मध्यप्रदेश और पुलिस महानिरीक्षक (आईजी) रीवा से एक सप्ताह में जवाब मांगा है। मालूम होकि सीधी के कोतवाली थाना पुलिस ने आठ युवकों के न केवल कपड़े उतरवाए, बल्कि उनके अर्धनग्न फोटो सोशल मीडिया पर वायरल भी करवा दिए। मामला सीधी के स्थानीय विधायक और उनके बेटे के खिलाफ सोशल मीडिया पर खबर प्रसारित करने से जुड़ा था। पुलिस ने पहले रंगकर्मी श्री नीरज कुंदेर को गिरफ्तार किया, तो उनके समर्थन में कुछ और युवक थाने पहुंच गए। लेकिन पुलिस ने उन सभी को हिरासत में लेकर उनका अर्धनग्न अवस्था का फोटो खींचा और वायरल भी कर दिया। मामले की शिकायत राजधानी (भोपाल) पहुंचने पर डीजीपी सुधीर सक्सेना के निर्देश पर  सीधी कोतवाली थाने के टीआई श्री मनोज सोनी एवं एसआई श्री अभिषेक सिंह को लाइन अटैच कर दिया गया है।
आईपीएस अफसर को सौंपी जांच 
डीजीपी सक्सेना के निर्देश पर इस मामले की जांच रेडियो एसपी आईपीएस अफसर अमित सिंह को सौंपी गई है। जोकि सीधी जाकर एक सप्ताह में मामले की जांच कर रिपोर्ट डीजीपी को सौंपेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.