सरकार, पुलिस-प्रशासन और संपूर्ण समाज शहीदों के परिजन के साथ है-श्री पटेल

सरकार, पुलिस-प्रशासन और संपूर्ण समाज शहीदों के परिजन के साथ है-श्री पटेल
Share on social media

ज्यपाल ने शहीद पुलिस जवानों को दी श्रद्धांजलि

mp03.in संवाददाता भोपाल 

समाज में शांति सद्भाव और भाईचारे के वातावरण को मजबूत रखने से ही विकास का मार्ग प्रशस्त होगा। पुलिस असामाजिक तत्व एवं राष्ट्र द्रोही ताकतों का पूरी कठोरता के साथ दमन करें। यह भी सुनिश्चित करें कि आमजन स्वयं को सुरक्षित महसूस करें। कभी किसी निर्दोष के साथ अन्याय नहीं हो। यह बात गुरुवार को लाल परेड मैदान स्थित शहीद स्मारक प्रांगण में आयोजित पुलिस स्मृति दिवस के मौके पर आयोजित कार्यक्रम में राज्यपाल मंगूभाई पटेल ने शहीदों के परिजनों को भरोसा दिलाते हुए कही। उन्होंने कहा कि उनके साथ मध्यप्रदेश सरकार, पुलिस प्रशासन और संपूर्ण समाज है।  उन्होंने देश और प्रदेश के सभी शहीद पुलिस अधिकारियों और जवानों को श्रद्धांजलि दी। कार्यक्रम में गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा, मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैस, अपर मुख्य सचिव गृह डॉ राजेश राजौरा भी मौजूद थे। आरंभ में पाल-बेयरर पार्टी द्वारा सम्मान सूची को स्मारक कोष में स्थापित किया गया और शहीद स्मारक को सलामी दी गई। आयोजित परेड का नेतृत्व भारतीय पुलिस सेवा के अधिकारी श्री अभिषेक तिवारी ने किया। परेड में महिला प्लाटून विशेष सशस्त्र बल एवं जिला बल की संयुक्त टुकड़ी, विशेष सशस्त्र बल की पुरूष प्लाटून, पुलिस बैंड प्लाटून और श्वान दल की टुकड़ियाँ शामिल थी

महिला ऊर्जा डेस्क अपराधों में कमी लाएगी

राज्यपाल ने कहा पुलिस द्वारा प्रदेश के सभी जिलों में महिला थाना तथा सात सौ महिला ऊर्जा डेस्‍क की स्‍थापना महिलाओं के विरूद्ध होने वाले अपराधों में कमी लाएगी। मध्‍यप्रदेश में सीसीटीव्ही कैमरों की फीड संबंधित जिलों के कंट्रोल रूम एवं भोपाल स्थित राज्य स्तरीय कंट्रोल रूम में देखी जा सकती है। पुलिस के कौशल उन्नयन और क्षमतावृद्धि के लिए राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय स्तर की संस्थाओं से करारनामे किए गए हैं। मध्‍यप्रदेश पुलिस द्वारा पूर्ण मुस्तैदी से किये जा रहे कार्य सराहनीय हैं।  इन प्रयासों को आगे भी जारी रखने की जरूरत है।

शहीदाें के बलिदान को नमन करने मनाया जाता है शहीद दिवस 

डीजीपी विवेक जौहरी ने कहा कि पुलिस स्मृति दिवस देश की अंखडता को चिरस्मरणीय बनाने का दिन है। उन्होंने शहीदो के बलिदान को नमन करते हुए बताया कि पुलिस शहीद दिवस लद्दाख के हॉट स्प्रिंग्स में 16 हजार फीट की ऊँचाई पर 21 अक्टूबर 1959 को केन्द्रीय आरक्षी पुलिस बल (सी.आर.पी.एफ.) के 10 जवान चीनी सेना के साथ मुठभेड़ में शहीद हो गए थे। उन्ही की स्मृति में देश की समस्त पुलिस इकाईयों द्वारा प्रतिवर्ष यह दिवस मनाया जाता है।

इस साल प्रदेश के 15 जवान हुए शहीद 

डीजीपी ने  बताया कि इस वर्ष हमारे प्रदेश पुलिस के 15 जवानों ने देश के लिए अपनी शहादत दी है। इनमें उप निरीक्षक स्‍व. श्री चंदन लाल उइके, उप निरीक्षक (अ) स्‍व. श्री शरद अग्रवाल, सहायक उप निरीक्षक स्‍व. श्री राजेन्‍द्र शर्मा, सहायक उप निरीक्षक स्‍व. श्री रमेश मेहरा, सहायक उप निरीक्षक स्‍व. श्री श्‍याम लाल डेहरिया, कार्यवाहक सहायक उप निरीक्षक स्‍व. श्री गोर्वधन सोलंकी, प्रधान आरक्षक स्‍व. श्री रामप्रकाश, प्रधान आरक्षक स्‍व. श्री सतेन्‍द्र अग्निहोत्री, प्रधान आरक्षक स्‍व. श्री कलू तिवारी, प्रधान आरक्षक (रेडियो) स्‍व. श्री दिनेश चंद्र शर्मा, प्रधान आरक्षक स्‍व. श्री भरत लाल चौहान, आरक्षक स्‍व. श्री दीपक राजुरकर, आरक्षक स्‍व. श्री राज कुमार यादव, आरक्षक स्‍व. श्री सुरेश मुडिया तथा आरक्षक (एमटी) स्‍व. श्री राजेश कुमार राजपूत शामिल हैं।

गृहमंत्री समेत आला अफसरों ने दी श्रद्धांजलि

कार्यक्रम के प्रारम्भ में राज्यपाल की गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने अगवानी की। कार्यक्रम के दौरान पुलिस बैंड द्वारा निकाली जा रही देशभक्ति के गीतों की मधुर धुन के बीच शहीदों को पुष्पांजलि अर्पित कर श्रद्धांजलि दी गई। इसके अलावा विशेष पुलिस महानिदेशक  पवन जैन, शैलेश सिंह, आर.के. मिश्रा, राजीव टंडन, अतिरिक्‍त पुलिस महानिदेशक मिलिंद कानस्‍कर, जी.पी.सिंह, अनुराधा शंकर,  सुषमा सिंह, राजेश चावला,  प्रज्ञा ऋचा श्रीवास्‍तव, आदर्श कटियार, जी जर्नादन, पुलिस पुलिस उप महानिरीक्षक  कृष्‍णावेणी देसावतु, सेनानी 7 वीं वाहिनी कमांडेंट तरूण नायक सहित सभी वरिष्ठ अधिकारियों ने भी पुष्प चक्र अर्पित कर श्रद्धांजलि दी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *