दर्जनों महिलाओं को लोन का झांसा देकर जालसाज महिला ने लगाई लाखों की चपत

दर्जनों महिलाओं को लोन का झांसा देकर जालसाज महिला ने लगाई लाखों की चपत
Share on social media

– आठ निजी फाइनेंस कंपनियों से लोन मंजूर कराकर रकम हड़पी
mp03.in संवाददाता भोपाल 
तलैया थाना इलाके में 45 वर्षीय एक महिला ने अपने आसपास, परिचित और गरीब महिलाओं से बिना कोई सामान गिरबी रखे दस्तावेज के आधार पर लोन दिलाने के नाम पर लाखों की जालसाजी की। करीब पचास पीड़िताएं अबतक जालसाजी का शिकार हो चुकी हैं। आशंका है कि महिला के संपर्क में करीब 200 महिलाए थीं, ऐसें पीड़िताओं की तादाद बढ़ सकती है। पुलिस ने धोखाधड़ी का मामला दर्ज कर मास्टरमाइंड महिला को गिरफ्तार कर लिया है। जांच में लोन देने वाली एनबीएफसी कंपनी के कर्मचारियों व अधिकारियों को भी आरोपी बनाया जाएगा।
तलैया थाना प्रभारी डीपी सिंह के अनुसार दुर्गा चौक तलैया निवासी 42 वर्षीय सुमनलता पत्नी जितेंद्र राठौर  अपने  परिवार के साथ रहती है। उन्होंने पुलिस को बताया कि 2013 में दुर्गा चौक तलैया निवासी स्नेहलता से उनका संपर्क हुआ था। स्नेहलता ने उसे झांसा देकर अपने समूह में शामिल कर लिया। इसके बाद स्नेहलता ने करीब एक सैकड़ा महिलाओं को अपने अलग-अलग समूह में जोड़ा और उनसे बैंक पासबुक, आधार कार्ड और वोटर आईडी लेेकर स्वयं का रोजगार, सामान खरीदने के लिए लोन दिलाने लगी। मास्टर माइंड स्नेहलता महिलाओं से दस्तावेज लेकर लालघाटी, त्रिलंगा, मिनाल रेसीडेंसी और शाहजहांनाबाद में स्थित अलग-अलग आठ नान बैंकिंग फाइनेंस कंपनियों से उक्त महिलाओं को लोन मंजूर करा देती थी। महिलाओं को आरोपी एनबीएफसी कंपनी के अधिकारियों व एजेंट्स से मिलकर 40 हजार से 60-70 हजार रुपए का लोन मंजूर कराती थी और पूरा पैसा अपने खाते में ट्रांसफर  करा लेती थी। किसी फरियादी को दस तो किसी को पांच हजार रुपए दे देती थी। उक्त महिलाओं से यही बताती थी कि तुम्हारे दस्तावेज पर इतना ही लोन मंजूर हुआ है और पूरा पैसा खुद हजम कर जाती थी।
– आठ साल से कर रही है फर्जीवाड़ा
मास्टरमाइंड महिला इतनी शातिर है कि 2013 से वह महिलाओं को अलग-अलग कार्यों के लिए लोन दिलाने के नाम पर ठग रही है। अब तक उसके खिलाफ आधा सैकड़ा महिलाओं ने तलैया थाने में आवेदन दे चुकी हैं, जिनसे करीब 25 लाख से अधिक की धोखाधड़ी का खुलासा हो चुका है। पुलिस गिर त में आई आरोपी स्नेहलता ने पुलिस को बताया कि उसके संपर्क में तलैया और आसपास के क्षेत्र की करीब दो सौ महिलाएं जुड़ी हैं, जिनके दस्तावेजों पर लोन निकाला है। ऐसे में आशंका है कि महिला करीब एक करोड़ रुपए का फर्जीवाड़ा किया होगा।
– ऐसे हुआ मामले का खुलासा
आरोपी महिला स्नेहलता जितनी राशि फरियादी महिलाओं को लोन के नाम पर दिलाती थी, उसका पूरा ब्याज व किश्तें वह स्वयं फइनेंस कंपनियों में जमा करती थी। फ रियादी महिलाओं को जितनी राशि देती थी, उनसे सिर्फ  उतनी ही राशि का ब्याज और किश्तें लेती थी। ऐसे में फ रियादी महिलाओं को पता ही नहीं चलता था कि उनके दस्तावेजों पर स्नेहलता ने कितना लोन ले रखा है। लॉकडाउन के दौरान स्नेहलता की आर्थिक हालत थोड़ा गड़बड़ हो गई और वह समय पर फ ाइनेंस कंपनियों को किश्तें नहीं दे पा रही थी। समय पर श्कितें जमा नहीं होने से फाइनेंस कंपनियों के रिकवरी एजेंट जिन महिलाओं के नाम पर लोन था, उनके घर आए दिन आने लगे और सार्वजनिक रूप से उन्हें धमकाने लगे। इस तरह जब दो दर्जन से अधिक महिलाओं के घर रिकवरी एजेंट्स धमकाते हुए पहुंचे तो सभी महिलाएं एकत्रित होकर थाने पहुंच गईं और स्नेहलता के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज करा दिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *