जालसाज दंपति ने 3 विधवा महिलाओं को लगाया  62 लाख रुपए का चूना

जालसाज दंपति ने 3 विधवा महिलाओं को लगाया  62 लाख रुपए का चूना
Share on social media

– ऑटो डील और ट्रैवल्स के बिजनेस में इनवेस्टमेंट का दिया था झांसा
mp03.in संवाददाता भोपाल।
कोतवाली थाना क्षेत्र में रहने वाले एक ट्रेवल्स संचालक ने कोहेफिजा थाना क्षेत्र में रहने वाली तीन विधवा महिलाओं को व्यवसाय में मुनाफे  का लालच देकर 62 लाख रुपए ठग लिए हैं।
जालसाज दंपति रहबर ट्रेवल्स नाम से मिनी बसों का संचालन करने के साथ पुराने वाहनों की खरीद-बिक्री करता है। इसी कारोबार में इनवेस्टमेंट के नाम पर वारदात को अंजाम दिया गया है।  कोहेफिजा पुलिस ने आरोपी दंपति के खिलाफ  धोखाधड़ी और अमानत में यानत का प्रकरण दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।
कोहेफिजा थाने के एएसआई रामप्रकाश सिंह के अनुसार राशिद उल्ला नूर महल रफीकिया स्कूल के पास कोतवाली थाना क्षेत्र में रहता है। जोकि रहबर ट्रेवल्स के नाम से मिनी बसों का संचालन करता है।  वह कोहेफि जा स्थित बीडीए कॉलोनी निवासी नसरीन फारुकी, औरंग बानो और मेहनाज खान का परिचित है। नसरीन फारूख्की और औरंग बानो सरकारी शिक्षिका हैं। जबकि मेहनाज खान गृहणी हैं। तीनों के मकान कोहेफिजा में आसपास ही हैं। कुछ साल पहले नसरीन बानो के पति की एक सड़क हादसे में मौत हो गई है। पति के क्लेम के रूप में उन्हें 42 लाख रुपए मिले थे। वहीं औरंग बानो और मेहनाज खान भी विधवा हैं। 2017 में जालसाज राशिद उल्ला और उसकी पत्नी नीलोफर राशिद ने नसरीन फारूकी से दोस्ती बढ़ाई और कहा कि आप मेरे ट्रेवल्स के व्यवसाय में पैसे लगाओ।  मैं पुरानी गाडिय़ों को खरीदने और बेचने का कार्य भी करने लगा है। हर एक लाख रुपए निवेश पर तीन हजार रुपए माह का मुनाफा देने का वादा किया गया था।  विधवा शिक्षिका को मुनाफे का लालच देकर जालसाज दंपति ने 42 लाख रुपए पति के क्लेम में मिले ठग लिए। इसके बाद उन्होंने विधवा शिक्षिका औरंगबानो से 11.60 लाख और मेहनाज खान से 9.15 लाख रुपए भी  इसी तरह व्यवसाय में मुनाफे का लालच देकर ठग लिए।
-दो साल पहले तक लेता रहा रकम
जालसाज दंपति नवंबर 2017 से जनवरी 2020 तक अलग-अलग किश्तों में पैसे लिए हैं।
अपना विश्वास जमाने के लिए शुरुआती कुछ महीने आरोपी दंपति ने महिलाओं को मुनाफे के कुछ हजार रुपए दिए भी हैं।  लेकिन 2020 में जैसे ही कोरोना का प्रकोप भोपाल में आया, पैसे देने बंद कर दिए। इतना ही नहीं कई महीने से तक वह व्यवसाय ठप होने का झांसा देकर पैसे नहीं दिए। इसके बाद महिलाओं ने अपने पैसे मांगना शुरू कर दिया तो वह लौटाने से आनाकानी करने लगा। कुछ माह पहले तीनों महिलाओं ने वरिष्ठ अधिकारियों को ठगी की शिकायत संबंधी आवेदन दिया था। आवेदन जांच के बाद पुलिस ने धोखाधड़ी और अमानत में खयानत का प्रकरण दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। फि लहाल जालसाज दंपति की गिर तारी नहीं हो सकी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *