पूर्व भाजपा पार्षद, मीडियाकर्मी, बिल्ड़र और आरपीएफ जवान ने क्राइम ब्रांच बनकर ट्रेन में कारोबारी से लूटे साढे़ तीन लाख!

पूर्व भाजपा पार्षद, मीडियाकर्मी, बिल्ड़र और आरपीएफ जवान ने क्राइम ब्रांच बनकर ट्रेन में कारोबारी से लूटे साढे़ तीन लाख!
Share on social media
mp03.in संवाददाता भोपाल 
ट्रेन में फर्जी क्राइम ब्रांच पुलिस बनकर सफर कर रहे कारोबारी से जालसाजी कर  साढ़े तीन लाख रूपए छीनने वाले
तीन आरोपियों को जीआरपी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। आरोपियों में न्यूज संभागीय ब्यूरो चीफ, आरपीएफ आरक्षक और पूर्व  भाजपा पार्षद शामिल हैं, जिन्होंने मिलकर क्राइम ब्रांच पुलिस बन साजिश रची थी।
जीआरपी एसपी हितेश चौधरी के अनुसार जीआरपी खंडवा लाइन पर ट्रेनों में हो रहे अपराधों की रोकथाम और आरोपियों की तलाश के निर्देश दिए गए थे। जिसके बाद एडिशनल एसपी रेल  प्रतिमा एस मैथ्यू, डीएसपी रेल इटारसी अर्चना शर्मा के  मार्गदर्शन में सतत् चेकिंग एवं गश्त ड्यूटी की जा रही है। इसी दौरान सूचना मिली कि 22 अक्टूबर को ट्रेन 02168 अप वाराणसी एलटीटी एक्सप्रेस  के कोच एस/4 बर्थ नं0 49 में सफर कर रहे जबलपुर निवासी कारोबारी कृष्णकांत पिता गौतम प्रसाद पटेल से बुरहानपुर स्टेशन पर दो अज्ञात व्यक्ति आये और अपने आपको क्राईम ब्रान्च का बताकर बोले कि  तेरा बैग खोलकर दिखा तब फरियादी द्वारा बताया गया कि वह व्यापार करने मुम्बई जा रहा है। उसके बैग में कुछ नहीं है तब उन्होंने फरियादी का आधार कार्ड एवं टिकिट ले लिया एवं बैग जबरदस्ती खुलवाकर देखा। जिसमें व्यापार के पांच लाख रूपए थे। आरोपियों ने  फरियादी को बाथरूम के पास ले जाकर फर्जी केस में फंसाने की धमकियां देकर 3,50,000 ले लिए। फरियादी क्राईम ब्रांच समझकर घबरा गया और उसने किसी से शिकायत नहीं की थी। मुम्बई से लौटने के बाद जबलपुर में अपने परिचितों से चर्चा की। जिसके बाद जीआरपी थाने में जाकर शिकायत की। फरियादी की रिपोर्ट पर से थाना जीआरपी खंडवा मे अपराध धारा 384,170,419, 34 भादवि का अपराध कायम कर विवेचना में लिया गया।

 घटना  गंभीर होने से तत्काल थाना प्रभारी बबीता कठेरिया द्वारा माल की बरामदगी एवं पतारसी हेतु टीम बनाई गई । उक्त टीम द्वारा मुखबिर सूचना, विवेचना एवं तकनीकी विश्लेषण करके नकली क्राइम ब्रांच के कर्मचारी बनकर धोखाधड़ी करने वाले घटना करने मे शामिल चार आरोपियों जिनमे से वर्तमान मे जबलपुर मे तैनात आरपीएफ आरक्षक

संदीप तिवारी पिता चंद्रिका प्रसाद तिवारी, साधना न्यूज ब्यूरो चीफ सचिन राव पिता स्व. श्री लक्ष्मण राव , पूर्व बीजेपी पार्षद नरेंद्र वर्मा और इंद्रलोक बिल्डर  सौरभ पिता वीरेंद्र शर्मा की भूमिका पायी जाने पर सभी को गिरफ्तार कर धोखाधड़ी कर लिया गया रुपया जप्त किया गया । प्रकरण सदर मे अभी शेष अन्य आरोपियों की तलाश की जा रही है जिनसे शेष नगदी राशि जप्त की जाना है।
मुख्य आरोपी पूर्व पार्षद नरेंद्र वर्मा 
आरोपी नरेंद्र वर्मा की नजर स्थानीय व्यापारियों के पैसे के आवागमन पर लंबे समय से थी । उसने ही फरियादी कृष्णकांत पटेल के व्यवसायिक आवागमन पर नजर रखने के लिए कुछ लोगों को लगा रखा था । जब कृष्णकांत पटेल ट्रेन में पैसा लेकर जाने के लिए तैयार हुआ तो उसने यह सूचना आरोपी सचिन राव से शेयर की और आरोपी सचिन राव को जबलपुर से खंडवा तक फरियादी पर नजर रखने के लिए नियुक्त किया। आरोपी सचिन राव ने खंडवा तक कृष्णकांत पर नजर रखी और उसके बाद आरपीएफ आरक्षक संदीप तिवारी और सौरव शर्मा ने खंडवा से उस ट्रेन की यात्रा शुरू की और कृष्णकांत से गांजा आदि के झूठे केस में फंसाने की धमकी देते हुए पैसे ले लिए। इस पूरे षडयंत्र और कार्यवाही पर आरोपी नरेंद्र वर्मा की लगातार नजर थी ।इस अपराध में शामिल अन्य उन लोगों की पतारसी की जा रही है जिन्होंने व्यापार के पैसे के आवागमन की जमीनी मुखबिरी आरोपी नरेंद्र वर्मा को दी थी ।
सराहनीय भूमिका-:
इस मामले का पर्दाफाश करने में डीएसपी  रेल इटारसी अर्चना शर्मा,  कठेरिया थाना प्रभारी सुश्री बबीता, सउनि अन्नीलाल पटेल, आरक्षक  संदीप मीना, आरक्षक  शिवकुमार, आरक्षक  माया शंकर यादव की सराहनीय भूमिका रही है| जिनके अच्छे कार्य हेतु ईनाम की घोषणा की गई  है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *