झूठा जाति प्रमाणपत्र लगाकर एट्रोसिटी का मामला दर्ज कराने वाले फरियादी पर जालसाजी की एफआईआर

झूठा जाति प्रमाणपत्र लगाकर एट्रोसिटी का मामला दर्ज कराने वाले फरियादी पर जालसाजी की एफआईआर
Share on social media

डेबिट कार्ड बंद कराने नाम पर हजारों की ठगी

mp03.in संवाददाता भोपाल 

गोविंदपुरा पुलिस ने फर्जी जाति प्रमाण-पत्र लगाकर एससी-एसटी एक्ट के तहत प्रकरण दर्ज कराने वाले पर धोखाधड़ी का केस दर्ज किया है। वहीं तीन अन्य मामलों में भी पुलिस ने सायबर फ्राड का केस दर्ज कर लिया है। चारों ही प्रकरणों में फिलहाल आरोपियों की गिरफ्तारी नहीं हो सकी है।

गोविंदपुरा पुलिस ने आकाश नाम के युवक पर फर्जी जाति प्रमाण-पत्र बनाकर एक व्यक्ति के खिलाफ एससीएसटी एक्ट के तहत झूठा प्रकरण दर्ज करने पर केस दर्ज किया है। आरोपी आकाश नाम के युवक ने गोविंदपुरा सीएसपी कार्यालय में फर्जी जाति प्रमाण-पत्र लगाकर खुद को एससी का बताकर बनवारी शर्मा  खिलाफ जाति सूचक शब्दों से अपमानित करने का आरोप लगाया था। पुलिस ने जाति प्रमाण-पत्र फर्जी पाए जाने के बाद धोखाधड़ी का प्रकरण दर्ज किया है।

बैंक अधिकारी बनकर लगाई 37 हजार की चपत 
अवधपुरी पुलिस के अनुसार बीडीए कोलानी, अमरावत खुर्द निवासी जयगोपाल वर्मा के डेबिट कार्ड से कुछ माह पहले कुछ रुपए कट गए थे, इसके बाद शिकायत के लिए ऑनलाइन नंबर तलाशा और डेबिट कार्ड बंद कराने के लिए कहा। इसके बाद कुछ दिन बाद उसके पास फोन आया, जिसने खुद को बैंक का अधिकारी बातकर एकाउंट से संबंधित डिटेल लेकर जल्द ही कार्ड बंद करने का भरोसा दिया। इसके बाद उनके खाते से  करीब 37हजार रुपए निकल गए। इसके बाद उन्होंने  सायबर सेल में शिकायत की थी। पुलिस ने धोखाधड़ी का प्रकरण दर्ज कर लिया है।

– कार्ड बदलकर निकाल लिए 9 हजार
अशोका गार्डन में रहने वाली 32 वर्षीय समला नाम की महिला कुछ दिन पहले एक एटीएम बूथ पर पैसे निकालने गई थी, जहां एक युवक पहले से खड़ा था। महिला के एटीएम कार्ड से पैसे नहीं निकले तो आरोपी युवक ने मदद करने का भरोसा देते हुए कहा कि आपने कार्ड सही से नहीं लगाया है। कार्ड मैं लगाता हूं। इसके बाद महिला का कार्ड लेकर जालसाज युवक ने अपने पास रख लिया और अपने पास रखा कार्ड एटीएम बूथ में लगा दिया। जब पैसे नहीं निकले तो आरोपी ने एटीएम बूथ में लगा कार्ड महिला को दे दिया। महिला कार्ड लेकर घर चली गई, इसी बीच आरोपी ने महिला का कार्ड जो अपने पास रख लिया था, उससे नौ हजार रुपए निकाल लिए।

केवायसी अपडेट करने के नाम पर 40 हजार का चूना 

38 वर्षीय गीतांजलि पाण्डेय पुत्री आरपी पाण्डेय केंद्रीय विद्यालय के पास रहती हैं। उन्होंने पुलिस को बताया कि उनके बैंक खाते का केवायसी अपडेट करने के नाम पर जालसाज ने फोन किया और पूरी डिटेल लेने के बाद उनके बैंक खाते से दो बार में 40 हजार रुपए निकाल लिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *