फर्जी डिग्री @ असिस्टेंट प्रोफेसर आरकेडीएफ के बडे़ लोगों के कहने पर बनाता था डिग्री

फर्जी डिग्री @ असिस्टेंट प्रोफेसर आरकेडीएफ के बडे़ लोगों के कहने पर बनाता था डिग्री
Share on social media
– उसके हिस्से में आती थी हर फर्जी डिग्री की दस प्रतिशत रकम
– हैदराबाद पुलिस कर सकती है भोपाल से और भी गिरफ्तारी
mp03.in संवाददाता भोपाल               
फर्जी डिग्री मामले में हैदराबाद पुलिस के हत्थे चढ़े आरकेडीएफ कॉलेज के असिस्टेंट प्रोफेसर केतन सिंह ने बड़े खुलासे किए हैं। खुद को मामूली मोहरा बताते हुए केतन सिंह ने आरकेडीएफ संस्थान के दिग्गज वरिष्ठ लोगों के इस गोरख धंधे में लिप्त होना बताया है।
सूत्रों की माने तो आरोपी हर फर्जी डिग्री पर उसे महज दस प्रतिशत राशि मिलना बताया। जबकि बाकी हिस्सा संस्थान के बडे़ लोगों के पास जाता था। उसने संस्थान के सभी लोगों की जानकारी और सहमती के बाद ही डिग्री तैयार होना कबूला।  हैदराबाद पुलिस का कहना है कि मामले की जांच जारी है। केतन के आरोपी की तजदीक कराई जाएगी। इसके बाद आगे की कार्रवाई तय की जाएगी। उल्लेखनीय है कि पुलिस ने अबतक इस धंधे में शामिल 10 लोगों को गिरफ्तार किया है।
हैदराबाद पुलिस सिटी कमिश्नर सीवी आनंद ने जानकारी दी है कि धंधे में शामिल लोग उन छात्रों को टार्गेट करते थे, जो फेल हो चुके होते थे या जो अपनी पढ़ाई पूरी नहीं करते थे। कमिश्नर ने बताया है कि पुलिस ने इन लोगों से बड़ी संख्या में फर्जी सर्टिफिकेट और अन्य सामान बरामद किए हैं। कार्रवाई कमिश्नर की टास्क फोर्स, नॉर्थ जोन टीम ने भोपाल पुलिस के साथ मिलकर की है। पुलिस टीम ने आसिफ नगर पुलिस थाना क्षेत्र के मेहदीपटनम में छापा मारा। पुलिस के अनुसार जहां आरोपी मेहदीपटनम में प्राइड एजुकेशनल एकेडमी के नाम से कंसल्टेंसी फर्म चला रहे थे। छापेमारी में इनके पास से कई फर्जी डिग्री सर्टिफिकेट बरामद किए गए हैं। इन लोगों ने फर्जी डिग्री सर्टिफि केट के लिए रेट लिस्ट भी बना रखी थी। फर्जी बीटेक डिग्री सर्टिफिकेट के लिए ये  ग्राहक छात्रों से  3 लाख रुपये वसूलते थे। वहीं बीकॉम और बीए के लिए 1.5 लाख रुपए लिए जाते थ्थे। बीएससी के लिए ये 1.75 लाख रुपये लेते थे. एमबीए के लिए 2.75 लाख रुपये वसूले जाते थे। पुलिस ने जानकारी दी है कि आरोपी गुंटी महेशवर राव यह फर्जी फर्म चला रहा था। इसका जुड़ाव भोपाल की सर्वपल्ली राधाकृष्णन यूनिवर्सिटी, सागर की स्वामी विवेकानंद यूनिवर्सिटी और यूपी के सहारनपुर की ग्लोबल यूनिवर्सिटी से था। आरोपी इन्हीं यूनिवर्सिटी से फ र्जी डिग्री सर्टिफि केट बनवाकर छात्रों को देते थे। बताया गया है कि दो आरोपियों गुंटी महेशवर राव और अंचा श्रीकांत रेड्डी ने भोपाल की सर्वपल्ली राधाकृष्णन यूनिवर्सिटी के असिस्टेंट प्रोफेसर केतन सिंह के साथ मिलकर सभी शैक्षणिक संस्थानों के साथ लिंक बनाए थे।
– केतन का मोबाइल खोलेगा राज़
हैदराबाद पुलिस ने आरोपी केतन का मोबाइल फोन और लैपटॉप जब्त किया है। केतन के वाट्सऐप और टैक्सट मैसेज में आरकेडीएफ के कई बड़े अधिकारियों और कर्मचारियों से चैटिंग मिली हैं। कुछ चैटिंग संदिग्ध हैं, जिनकी पुलिस जांच कर रही है। वहीं लैपटॉप में छात्रों का बड़ा डाटा है, इसी के साथ कई कंसुलटेंसी वालों रिकार्ड भी मौजूद है, जो एडमिशन के लिए दलाली करने से लेकर फर्जी डिग्री बनवाने तक केतन के संपर्क में रहते थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *