बेरोजगारी से तंग इंजीनियर ने ट्रेन से कटकर जान दी

बेरोजगारी से तंग इंजीनियर ने ट्रेन से कटकर जान दी
Share on social media
mp03.in संवाददाता भोपाल 
 ऐशबाग इलाके में बेरोजगारी से तंग आकर एक इंजीनियर ने मंगलवार रात ट्रेन से सामने आकर आत्महत्या कर ली। मृतक के पास से मिले सुसाइड नोट से आत्महत्या के कारणों का खुलासा हुआ। पुलिस ने मर्ग कायम कर मामले की जांच शुरु कर दी है। इधर गोविंदपुर में आरबीआई के एक कर्मचारी की लाश पुलिस ने रेलवे ट्रैक के पास से बरामद की है।
ऐशबाग पुलिस के अनुसार आचार्य नरेंद्र देव नगर निवासी दीपक यादव पिता कमल सिंह (25) सिविल इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने के बाद वह नौकरी की तलाश में था। लॉकडाउन के चलते नौकरी न मिलने से वह डिप्रेशन में आ गया था, उसे लग रहा था कि उसने अब नौकरी नहीं मिलेगी। मंगलवार रात करीब एक बजे वह रेलवे ट्रैक के पास पहुंचा। जहां पटरी पर आ रही ट्रेन के सामने कुदकर आत्महत्या कर ली।  सूचना मिलते ही मौके पर पहुंची पुलिस ने मृतक का शव बरामद कर उसे पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। मृतक की जेब से पुलिस ने सुसाइड नोट बरामद किया, जिसमें लिखा था कि वह नौकरी नहीं मिलने से परेशान चल है, और अब उसे लगता नहीं है कि आगे नौकरी मिल सकेगी। इसलिए वह अपनी जान दे रहा है। पुलिस ने सुसाइड नोट को कब्जे में लेकर जांच शुरू कर दी है।
रेलवे ट्रैक पर मिला शव 
गोविंदपुरा थाने के एएसआई अजीम शेर खान के अनुसार रचना नगर अंडरब्रिज के पास रेलवे ट्रैक पर एक युवक की लाश मिली थी। सूचना पर पहुंची पुलिस ने उसकी तलाशी ली तो उसकी जेब से एक मोबाइल फोन मिला। जिससे फोन लगाया तो पता चला कि मृतक का नाम राजकृपा गौर है, और वह आरबीआई में नौकरी में करता था। पुलिस का अनुमान है कि उसने ट्रेन से कटकर अपनी जान दी है। मृतक के परिजनों को मौत की खबर दे दी है।
अधेड़ ने घर में फांसी लगाई
गोविंदपुरा पुलिस के अनुसार हीरालाल पिता लालविहार (50) विकास नगर में रहते थे। मंगलवार रात उन्होंने अपने घर में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। घटना के कारणों का अभी पता नहीं चल सका है। पुलिस ने शव को पीएम के लिए भेज दिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *