लाइव इंडिया चैनल के कंप्यूटरों की जांच करेगी क्राइम ब्रांच

लाइव इंडिया चैनल के कंप्यूटरों की जांच करेगी क्राइम ब्रांच
Share on social media

mp03.in संवाददाता भोपाल 

हड्डी रोग विशेषज्ञ से पचास लाख रुपए की ब्लेकमेलिंग करने के मामले में क्राइम ब्रांच अब लाइव इंडिया चैनल के दफ्तर में लगे कंप्यूटरों की जांच करेगी। पुलिस के अनुमान है कि आरोपियों ने पूर्व में जिन-जिन लोगों से ब्लेकमेलिंग की है या अपना शिकार बनाया होगा, उनकी जानकारियां कंप्यूटरों में दर्ज होंगी। वहीं, मामले में फरियादी और  आरोपी महिला से  छेड़छाड़ के आरोपी को डॉक्टर को अभी तक गिरफ्तार नहीं किया जा सका है।

क्या है मामला ।।

हमीदिया अस्पताल के पूर्व अधीक्षक डॉक्टर दीपक मरावी ने क्राइम ब्रांच को शिकायत कर बताया था कि युवती ने उनसे दो तीन बार फोन पर बात की थी इसके बाद वह 29 अगस्त को उनके ईदगाह हिल्स स्थित शासकीय आवास पर क्लीनिकल सलाह लेने के लिए आई थी। वह युवती से बात कर ही रहे थे कि तभी अचानक निजी चैनल का मालिक बना लाल सिंह, उसका सहयोगी अवधेश शर्मा, कैमरामैन तपन वहां पर पहुंच गए। उन्होंने घर में दाखिल होते ही डॉक्टर मरावी से कहा कि तुम युवती के साथ अश्लील हरकतें कर रहे थे। उन्होंने मौके पर ही वीडियो बना लिए। इसके बाद उन्होंने पूरे मामले को रफा-दफा करने के लिए पचास लाख रुपए की अड़ी डाल दी। बाद में सौदा पांच लाख रुपए में तय हो गया। रुपए देने से पहले ही डॉक्टर मरावी ने क्राइम ब्रांच को सूचना दे दी। क्राइम ब्रांच ने घेराबंदी कर बनालाल व अवधेश शर्मा को गिर तार कर लिया। जबकि तपन व दो महिला रिपोर्टर अब भी फरार हैं। इधर महिला रिपोर्टर की शिकायत पर डॉक्टर मरावी के खिलाफ छेडख़ानी का प्रकरण भी दर्ज किया गया है।

चैनल के दफ्तर की हार्ड डिस्क खोलेगी राज 
क्राइम ब्रांच के अनुसार  चैनल के दफ्तर  को सील किया जाएगा। वहां से कंप्यूटर व ऑडियो-वीडियों से जुडे उपकरण जब्त किए जाएंगे। आरोपियों के मोबाइल पहले ही जब्त कर लिए गए हैं। माना जा रहा है कि आरोपियों ने कई और लोगों के साथ भी ब्लेकमेलिंग की है। चैनल के दफ्तर से उनकी करतूतों  के सुराग हाथ लगेंगे। इधर आरोपी महिला रिपोर्टर की शिकायत पर छेड़छाड़ की रिपोर्ट तो दर्ज कर ली गई है, लेकिन चौबीस घंटे बीत जाने के बाद भी आरोपी की गिरफ्तारी नहीं की गई है।

कोट्स 

दो आरोपी गिरफ्तार होकर जेल जा चुके हैं। तीन आरोपियों की गिरफ्तारी जल्द होना है। डाक्टर की भी छेड्छाड़ मामले में गिरफ्तारी होना है।

गोपाल धाकड़, एडिशनल एसपी क्राइम ब्रांच 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *