हमीदिया के पूर्व अधीक्षक चौरसिया से क्राइमब्रांच ने की पूछताछ!

हमीदिया के पूर्व अधीक्षक चौरसिया से क्राइमब्रांच ने की पूछताछ!
Share on social media

  –  चौरसिया से पूर्व कर्मचारियों की जानकारी मांगी

  • हमीदिया अस्पताल से रेमडेसिविर इंजेक्शन चोरी का मामला

 mp03.in संवाददाता भोपाल

हमीदिया अस्पताल से 850 रेमडेसिविर इंजेक्शन चोरी के मामले में हमीदिया के पूर्व अधीक्षक आईडी चौरसिया को क्राइम ब्रांच ने पूछताछ के लिए सोमवार को बुलाया। जहां उनसे करीब डेढ़ घंटे तक पूछताछ की गई। उनसे स्टोर में तैनात तमाम कर्मचारियों की ड्यूटी व जिम्मेदारियों की जानकारी ली गई। घटना से समय स्टोर से लापता कुछ संदेही कर्मचारियों जानकारी हासिल की गई।
जानकारी के अनुसार हमीदिया के सेंट्रल स्टोर से चोरी हुए रेमडेसिविर इंजेक्शन स्टाफ की मिलीभगत से ही गायब हुए थे। पुलिस को स्टोर से एक डायरी मिली है जिसमें चोरी गए 863 इंजेक्शन का ब्योरा मिला है। डायरी मिलने के बाद पुलिस ने इस मामले की सारी परतें खोल दी हैं। वहीं, पुलिस इस मामले में स्टोर के स्टाफ समेत अन्य जि मेदार लोगों के खिलाफ अमानत में खयानत की धारा बढ़ाने की तैयारी में है। गायब इंजेक्शन दिल्ली में एक पेशेंट को लगने के खुलासे के बाद क्राइम ब्रांच ने 35 से अधिक लोगों के बयान दर्ज किए गए थे। पुलिस सूत्रों का कहना है कि क्राइम ब्रांच को स्टोर से एक डायरी मिली है। इस डायरी में रेमडेसिविर इंजेक्शन की डिमांड करने वाले डॉक्टर, स्टाफ एवं अन्य लोगों के नाम की एंट्री है। जांच में यह भी आया है कि कोविड सेंटर में पेशेंट के लिए स्टोर से रेमडेसिविर इश्यू किए गए। नियमानुसार कोविड सेंटर को स्टोर में यह रिकार्ड अपडेट कराना होता है कि कितने इंजेक्शन लगे। लेकिन कई बार पेशेंट के ठीक होने या उसकी मौत के बाद इंजेक्शन बच जाते हैं। इन इंजेक्शन की स्टोर के स्टाक रजिस्टर में वापसी की एंट्री नहीं होती है।

चौरसिया ने अपना पक्ष रखा

उल्लेखनीय है कि मामले में तीन दिन बाद भी खाली हाथ है। वहीं मंगलवार को डाक्टर चौरसिया की गिरफ्तारी की खबरें सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हुईं। जिसके बाद में चौरिया में ने एक वीडियो जारी कर अपना पक्ष रखते हुए क्राइम ब्रांच द्वारा उन्हें पूछताछ करने के लिए बुलाने की बात कही।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *