12 वीं की छात्रा ने औबेदुल्लागंज में अपने प्रेमी के साथ ट्रेन से कटकर जान दी,

12 वीं की छात्रा ने औबेदुल्लागंज में अपने प्रेमी के साथ ट्रेन से कटकर जान दी,
Share on social media
mp03.in संवाददाता भोपाल
राजधानी में 12 वीं कक्षा में पढ़ने वाली छात्रा ने अपने प्रेमी के साथ औबेदुल्लागंज में रेलवे ट्रैक पर आ रही जनशताब्दी एक्सप्रेस के सामने आकर आत्महत्या कर ली। मृतका की छोला मंदिर थाने में गुमशुदगी दर्ज थी। पुलिस ने दोनों की शिनाख्त कर मर्ग कायम कर लिया है। इस मामले की जांच औबेदुल्लागंज पुलिस कर रही है।
जानकारी के अनुसार छोला मंदिर थाना क्षेत्र निवासी 17 वर्षीय किशोरी 12 वीं कक्षा की छात्रा थी। उसके पिता ऑटो चलाते थे। जिसका करीब दो सालों से प्रेम संबंध निशातपुरा इलाके में रहने वाले 19 वर्षीय युवक से था। युवक  बेरोजगार और  10 वीं कक्षा तक पढ़ा था। युवक के पिता धार्मिक शिक्षा देते हैं। दोनों एक साथ रहना चाहते थे, हालांकि लड़की नाबालिग होने के साथ ही अलग धर्म की थी। जिस डर के कारण दोनों परिजनों को शादी के लिए मनाने में नाकाम रहे। बीती 19 मार्च की दोपहर को दोनों ने एक साथ घर से भागने का फैसला लिया। किशोरी ने खर्च के लिए करीब पांच हजार रुपए अपने पास रख लिए थे। भोपाल से दोनों ने कैब हायर की और भीमबेटका निकल गए। यहां कुछ घंटो दोनों एक साथ घूमते रहे। 19 मार्च की ही रात दोनों ने एक साथ औबेदुल्लागंज स्थित चौकी बरखेड़ा अंर्तगत उमरिया गांव रेलवे ट्रेक में एक साथ ट्रेन से कटकर खुदकुशी कर ली। लड़की के परिजनों ने 20 मार्च को उसकी गुमशुदगी छोला मंदिर थाने में दर्ज कराई। पुलिस जांच में पता लगा की समान हुलिए की लड़की ने एक युवक के साथ औबेदउल्लागंज में ट्रेन से कटकर आत्महत्या कर ली। सूचना मिलने पर गुमशुदा किशोरी के परिजनों को पुलिस ने रविवार को औबेदुल्लागंज भेजा, जहां मृतका की परिजनों ने शिनाख्त अपनी बेटी के रूप में की।  दोनों शवों को पोस्टमार्टम के बाद में भोपाल भेज दिया गया। जहां उनके परिजनों ने अलग-अलग उनके शवों के अंतिम संस्कार किए। पुलिस ने मर्ग कायम कर मामले की जांच शुरु कर दी है।
टैक्सी चालक से पूछताछ
पुलिस की उस टैक्सी चालक से भी बात हो गई है जिसने उन्हें भीमबेटका तक छोड़ा था। उसने बताया कि भीमबेटका पहुंचने के बाद उन्होंने पैसे देकर उसको चलता कर दिया था।  दोनों 19 मार्च की दोपहर करीब 12 बजे घर से निकले थे। दोनों ही अपने परिजनों को इसके बारे में कुछ नहीं बताया था। दो से तीन बजे के बीच दोनों भीमबेटका पहुंचे थे।
दोनों एक दूसरे का हाथ पकडे़ थे 

ट्रैक पर एक-दूसरे का हाथ पकड़कर खड़े हुए थे। जन शताब्दी के ड्राइवर ने हॉर्न बजाकर उन्हें ट्रैक से हटने के लिए अलर्ट किया था, लेकिन दोनों एक दूसरे का हाथ पकड़े खड़े रहे थे। पुलिस को घटना की सूचना रेलवे से मिली थी।

कोई पहचान पत्र नहीं था पास 

उन्होंने खुद की पहचान छिपाने के लिए ही अपने पास किसी तरह का कोई पहचान पत्र रखा था। इतना ही नहीं दोनों ने किसी तरह का कोई सुसाइड नोट भी नहीं छोड़ा। पुलिस को आशंका है कि ऐसा उन्होंने खुद की पहचान छिपाय रखने के लिए किया होगा, ताकि परिजन उनकी तलाश करते रहें।

पुलिस को इसलिए सफाई देनी पड़ी

मामला दो धर्मों और प्रेम प्रसंग का होने के कारण इस लव जिहाद कहा जा रहा था, ऐसे में पुलिस को सफाई देने सामने आना पड़ा। मामले की गंभीरता को देखते हुए एसपी नॉर्थ विजय कुमार खत्री ने खुद वीडियो के मध्यम से अपना बयान जारी कर इसे प्रेम प्रसंग का मामला बताया। हालांकि पुलिस ने लड़की को नाबालिग बताते हुए उसकी जानकारी सार्वजनिक करने से मना कर दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *