सेना के केप्टन से प्लॉट बेचने के नाम पर 17 लाख की जालसाजी

सेना के केप्टन से प्लॉट बेचने के नाम पर  17 लाख की जालसाजी
Share on social media
mp03.in संवाददाता भोपाल
 सिचाचीन में देश की सुरक्षा में तैनात सेना के एक कैप्टन के साथ भोपाल के तीन प्रापर्टी डीलरों ने 17 लाख की धोखाधड़ी कर दी। आरोपियों ने फरियादी के भोपाल में नहीं रहने का ही जमकर फायदा उठाया और एक प्लॉट दिखाकर उसके फर्जी दस्तावेजों के आधार पर रजिस्ट्री करा दी, लेकिन उसे प्लॉट का कब्जा नहीं दिया। 2018 में फरियादी कैप्टन ने अयोध्या नगर थाने में आवेदन दिया था, लेकिन पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की। कुछ दिन पहले कैप्टन ने भोपाल एडीजी उपेंद्र जैन के कार्यालय में आवेदन दिया था जिसमं उसकी छोटी बहन फरियादी थी। इसी आवेदन की जांच के बाद अयोध्या नगर पुलिस ने बीती रात तीन आरोपियों के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज कर लिया है। टीआई रेणु मुराब ने बताया कि तोषण दिवेदी  पिता रामखेलावन दिवेदी भोपाल के रहने वाले हैं और सेना में कैप्टन हैं। वर्तमान में गंगटोक में   पदस्थ हैं। अप्रैल 2017 में उन्हें एक फंड मिला था, जिससे उन्होंने भोपाल के अरेड़ी गांव में प्लॉट खरीदा। प्लॉट इंद्रपाल के नाम था, लेकिन उसमें शुभम तोमर और रामदास भी प्रापर्टी डीलिंग संस्था में पार्टनर थे। तीनों ने मिलकर फरियादी से 17 लाख रुपए लेकर अप्रैल 2017 में प्लॉट की रजिस्ट्री करा  दी। लेकिन प्लॉट का कब्जा नहीं दिया।
साल भर बाद टरकाने लगे
फरियादी 2017 में सियाचीन में पदस्थ थे। वर्ष 2018 में जब फिर छुट्टी पर आए तो दोबारा प्लॉट का कब्जा मांगा। फरियादी टालमटोल करने लगे। इसके बाद फरियादी को दूसरी जगह नया प्लॉट देने का झांसा देने लगे। फरियादी को ठगी का एहसास हो गया, लेकिन उसकी छुट्टियां समाप्त होने के कारण वे ड्यूटी पर चले गए। ड्यूटी पर जाने से पहले उन्होंने भोपाल में रहने वाली अपनी बहन संजू द्विवेदी को इस केस को डील करने की जिम्मेदारी सौंपी थी। कुछ महीने पहले फरियादी पक्ष ने भोपाल एडीजी कार्यालय में धोखाधड़ी की शिकायत की थी। इसी शिकायत के जांच के आधार पर इंद्रपाल, शुभम तोमर और रामदास के खिलाफ धोखाधड़ी, अमानत में खयानत और आपराधिक षड्यंत्र का मामला दर्ज कर लिया है। टीआई ने बताया कि आरोपियों की गिरफ्तारी नहीं हो सकी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *