बेरोजगारी और तकाजेदारों से परेशान युवक ने फांसी लगाई

बेरोजगारी और तकाजेदारों से परेशान युवक ने फांसी लगाई

mp03.in संवाददाता भोपाल 

शाहपुरा इलाके में बेरोजगारी व लेनदारों के तकाजों से परेशान  युवक ने मंगलवार शाम फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। परिजन उसे फंदे से उतारकर निजी अस्पताल ले गए थे, वहां डॉक्टर ने उसे प्राथमिक जांच में ही मृत घोषित कर दिया। पुलिस को घटनास्थल से सुसाड नोट नहीं मिला है। पुलिस ने मर्ग कायम कर जांच शुरू कर दी है।
एएसआई मुंशीलाल धाकड़ ने बताया कि  इंद्रा नगर मल्टी निवासी सतीष पिता खांडेराव पिता पंजाब खांडेराव (18) केबल आपरेटर के पास काम करता था। करीब एक सप्ताह पहले उसे केबल आपरेटर ने काम से निकाल दिया था। काम से निकाले जाने से सतीष परेशान था। माता-पिता ने पुलिस को बताया कि मंगलवार शाम करीब साढ़े 3 बजे के आसपास वे घर के आसपास ही थे। इस दौरान पिता घर पहुंचे तो दरवाजा अंदर से बंद था। पिता ने आवाज दी, लेकिन सतीष ने दरवाजा नहीं खोला। कुछ देर बाद मां भी पहुंच गई। दोनों के प्रयास के बाद भी दरवाजा नहीं खुला तो पड़ोसियों की मदद से दरवाजा तोड़ा गया था। इस दौरान सतीष फांसी के फंदे पर लटका नजर आया। परिजन उसे फंदे से उतारकर अस्पताल लेकर पहुंचे, वहां पता चला कि सतीष की मौत हो चुकी है। घटना की जानकारी मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची और निरीक्षण किया, लेकिन सुसाइड नोट नहीं मिला।
इकलौता था सतीष
सतीष के पिता पंजाब खांडेराव ने पुलिस को बताया कि वे बड़ी बेटी की शादी कर चुके हैं। वह अपने ससुराल है। सतीष उनका छोटा और इकलौता बेटा था। काम से निकाले जाने के बाद वह दुखी रहने लगा था। बेरोजगारी के कारण उसने शराब पीनी शुरू कर दी थी। उसने कुछ लोगों से उधार रुपए भी ले लिए थे। आलम यह हो गए थे कि उधारी का रुपए मांगने लोग घर आने लगे थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.