चोथी फेल नशेड़ी ने दिया था मोती मस्जिद से गुंबद को चाेरी को अंजाम

चोथी फेल नशेड़ी ने दिया था मोती मस्जिद से गुंबद को चाेरी को अंजाम

नेपाल की बार्डर से दबोच कर लाई पुलिस आरोपी को 

mp03.in संवाददाता भोपाल 

मोती मस्जिद के गुंबद से कलश चोरी की वारदात को अंजाम देने वाला बिहार का रहने वाला बदमाश चोथी फेल है। जिसे भोपाल पुलिस ने नेपाल बार्डर से दबोच लिया है। आरोपी सूखे नशे का आदि बताया जा रहा है। गुंबद को चारी करने के बाद में उसने सेंट्रल लायब्रेरी के पास फेंक दिया था। उसकी निशानदेही पर गुंबद को बरामद किया गया है। आरोपी ने पुलिस को बताया कि वह काम की तलाश में आया था। चाय की होटल पर जाया करता था। जहां लोगों ने उसे बताया था कि मस्जिद की गुंबद सोने की है। जिसके बाद में मस्जिद के पिछले हिस्से में लगी जालियों के रास्ते वह मस्जिद में दाखिल हुआ और गुंबद को चोरी कर फरार हो गया। सीसीटीवी कैमरों की मदद से पुलिस ने आरोपी की पहचान की थी। वारदात को 6 अक्टूबर की रात को अंजाम दिया गया, तब बारिश और तूफान के कारण बिजली गुल थी।
डीसीपी रियाज इकबाल ने बताया कि अगरिया, बिहार निवासी अन्जार अहमद (19) पुत्र सोहेल अख्तर पुलिस ने मोती मस्जिद के गुंबद से सोने का कलश चोरी करने के मामले में गिरफ्तार किया है। पुलिस ने विदिशा निवासी मोती मस्जिद के चौकीदार मोहम्मद  लईक पुत्र शादीन खॉ की रिपोर्ट पर अज्ञात आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज करके जांच शुरू की थी। घटना धार्मिक स्थल पर होने के कारण संवेदनशील थी। मामले की गंभीरता को देखते हुए अधिकारियों ने क्राइम ब्रांच पुलिस के साथ चोरी का खुलासा करने के लिए रणनीति बनाई। घटना के बाद पुलिस ने इलाके में लगे सीसीटीवी फु टेज खंगाले। इसमें एक संदिग्ध का सीसीटीवी फुटेज सामने आया। लेकिन उसकी पहचान नहीं हो सकी। पुलिस ने इलाके में लोगों को उसके फुटेज दिखाए। इसी बीच एक दुकानदार ने बताया कि इस लड़के ने चार-पांच दिन पहले उसके साथ विवाद किया था। विवाद के बाद वह अपने भाईयों के साथ घर चला गया था। पुलिस ने उसके भाईयों के बारे में पता लगाया। भाईयों ने बताया कि अन्जार बिहार चला गया है। पुलिस की टीमें बिहार भेजी गईं। आरोपी की लोकेशन नेपाल बार्डर पर मिली। पुलिस ने उसे नेपाल बार्डर से हिरासत में लिया। आरोपी ने बताया कि बिहार में रोजगार की कमी है। ऐसे में वह भोपाल में रहने वाले अपने सौतेले भाईयों के पास काम के सिलसिले में आता-जाता रहता है। इसकी दूसरी वजह उसने यह भी बताई कि वह सूखे नशे का आदी है। बिहार ड्राय स्टेट होने की वजह से वह भोपाल आता जाता रहता है।
– सीसीटीवी में हुआ था कैद
मामले का पर्दाफाश करने के लिए सीसीटीवी तलाशने के साथ पुलिस ने तकनीक का इस्तेमाल कर सायबर सेल, एफ एसल, फिं गर प्रिंट, डॉग स्कॉड की टीम से घटनास्थल का निरीक्षण कराया गया। संदेह के आधार पर अन्जार अहमद पुत्र सोहेल अख्तर निवासी इस्लामपुरा को चिन्हित किया गया। इसके बाद 22 अक्टूबर को अन्जार के पकडऩे के लिए जिला- अगरिया, बिहार नेपाल बॉर्डर के पास भोपाल से करीब 1500 किलोमीटर दूर टीम को रवाना किया गया। पुलिस टीम दीपावली का त्यौहार न देखते हुए तुरंत नेपाल बॉर्डर के लिए रवाना हुई और आरोपी के पकड़ा। आरोपी ने पूछताछ में मोती मस्जिद से कलश चोरी करने की बात कबूली। जब पुलिस कलश के बारे में पूछा तो उसने सेंट्रल लाइब्रेरी के पास नाले में कलश को फेंकना बताया। जिसे पुलिस टीम ने 4 घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद नगर निगम टीम की मदद से जेसीबी मशीन लगाकर सेंट्रल लाइब्रेरी के पास नाले से आरोपी की बताई जगह से चोरी किया गया कलश बरामद किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.