जबलपुर पुलिस ने किया युवती के अंधे कत्ल का 24 घंटे में खुलासा, आरोपी गिरफ्तार

जबलपुर पुलिस ने किया युवती के अंधे कत्ल का 24 घंटे में खुलासा, आरोपी गिरफ्तार
शादी के लिये दबाव बनाने पर प्रेमी ने रस्सी से गला घोंट कर  एवं पत्थर से हमला कर की थी हत्या
mp03.in संवाददाता भोपाल /जबलपुर 
शनिवार को ग्राम संजारी में एक युवती के अंधे कत्ल का जबलपुर की कुंडम पुलिस ने चौबीस घंटों में पर्दाफाश कर लिया। पुलिस ने आरोपी को भी गिरफ्तार कर लिया है।
जबलपुर पुलिस के अनुसार ग्राम संजारी में युवती की संदिग्ध मौत की सूचना के बाद थाना प्रभारी प्रताप सिंह मरकाम हमराह स्टाफ के पहुंचे। जहां  गुड्डी बाई उर्फ सावित्री बाई विश्वकर्मा ने बताया कि शुक्रवार रात 9 बजे उनकी बेटी सुमन विश्वकर्मा दूसरे कमरे में मोबाइल देख रही थी।  रात लगभग 11 बजे मोबाइल देखने के बाद बेटी सुमन अकेली उसी कमरे में सो गयी थी। बाजू वाले कमरे  गुड्डी बाई, पित  तितरा लाल विश्वकर्मा ओर छोटा बेटा शिवम विश्वकर्मा दरवाजा बंद कर सो गये थे । सुवह 6 बजे पड़ोसन गायत्री बाई ने बताया कि  सुमन की लाश  नीम के पेड़ के नीचे  पड़ी हुयी है। जाकर देखा तो  सुमन चित हालत में मृत अवस्था में पड़ी थी सुमन के दाहिने आंख के ऊपर माथे में मारपीट करने से आयी चोट के निशान है तथा दाहिने आंख के ऊपर गहरा घाव है जिससे खून निकल रहा है चेहरे में मुंह के पास, कान, गले में भी चोट के निशान हैं। सूचना के बाद पुलिस ने एफ.एस.एल., फिंगर प्रिंट की टीम एवं डॉग स्क्वाड की उपस्थति में घटना स्थल का निरीक्षण करते हुये पंचनामा कार्यवाही कर शव को पीएम हेतु भिजवाया। साथ ही अज्ञात आरोपी के विरूद्ध अपराध क्र 255/22 धारा 302 भा.द.वि. का अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना मे लिया गया।               पुलिस अधीक्षक जबलपुर श्री सिद्धार्थ बहुगुणा द्वारा आरोपी  की पतासाजी करते हुये  शीघ्र  गिरफ्तारी हेतु आदेशित किये जाने पर अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक शहर उत्तर/यातायात श्री प्रदीप कुमार शेण्डे , उप पुलिस अधीक्षक  ग्रामीण श्रीमति अपूर्वा किलेदार के मार्गदर्शन में थाना प्रभारी कुण्डम श्री प्रताप सिंह मरकाम के नेतृत्व में टीम गठित कर लगायी गयी।
सहेली के भाई से था संबंध 
जांच के दौरान पतासाजी पर ज्ञात हुआ कि मृतिका कु. सुमन विश्वकर्मा बचपन से ही चौकी मनेरी जिला मण्डला में नाना के घर में रहकर पढाई करती थी। मृतिका की मॉ ने बताया कि बेटी बीमार थी जिसे 1 माह पूर्व घर लेकर आयी थी। उन्होंने बताया कि  ग्राम महगॉव डूंगा में बेटी की एक सहेली है, जिसके भाई से बेटी बात करती थी। शंका होने पर शुभमनाथ पिता द्वारका प्रसाद नाथ  को अभिरक्षा में लेकर सघन पूछताछ की गयी, उसे कबूला कि  3 वर्ष से शुभमनाथ  के प्रेम संबंध कु0 सुमन विश्वकर्मा से थे जो विवाह के लिये लगातार दबाव बना रही थी जबकि शुभमनाथ ने कहीं और शादी कर ली थी । दिनांक 09.09.22 को रात्रि में कुमारी  सुमन विश्वकर्मा ने शुभमनाथ को बात करने के लिये बुलाया , शुभमनाथ मोटर सायकिल से ग्राम संजारी रात लगभग 12 बजे सुमन के घर के पीछे बाड़ी में पहुंचा जहां बातचीत के दौरान सुमन विश्वकर्मा ने पुनः शादी हेतु दबाव बनाना शुरू कर दिया, आवेश में आकर शुभमनाथ ने बाड़ी में बंधी रस्सी खोलकर रस्सी से कुमारी सुमन विश्वकर्मा का गला घोट दिया और पास में पडे पत्थर से  सिर पर हमला कर कु. सुमन की हत्या कर दी एवं भाग गया। पुलिस ने   आरोपी शुभमनाथ की निशादेही घटना में प्रयुक्त रस्सी, पत्थर, मोबाईल एवं मोटर सायकिल क्र. MP 20 ND 8223 तथा घटना के वक्त पहने हुये पकड़े एवं मृतिका का मोबाईल जो कि छीनाझपटी के दौरान बाड़ी में गिर गया था को जप्त करते लिया।  आरोपी को  प्रकरण में विधिवत गिरफ्तार कर मान्नीय न्यायालय के समक्ष पेश किया गया।
इनकी अहम भूमिका 
 उल्लेखनीय भूमिका-अंधी हत्या का 24 घंटे के अंदर खुलासा कर आरोपी को पकड़ने में थाना प्रभारी कुण्डम श्री प्रताप सिंह मरकाम, थाना प्रभारी बरेला श्री जितेन्द्र यादव,  थाना कुण्डम के उप निरीक्षक वीरेंद्र उइके, सहायक उप निरीक्षक रूपसिंह कुशराम,   गोवर्धन ठाकुर,  राजकुमार यादव, प्रधान आरक्षक भूपत पटेल, आरक्षक राज नागवंशी,   प्रिंस,  सरोज कुमार,   मोती सिंह,   कीरत रघुवंशी, महिला आरक्षक स्तुती पांडे,  थाना बरेला के प्रधान आरक्षक पुष्पेन्द्र पाण्डे, लक्ष्मण सिंह, आरक्षक मनोज झारिया एवं संदीप सतनामी की सराहनीय भूमिका रही।

Leave a Reply

Your email address will not be published.