इंदौर में गिरफ्तार फर्जी लेडी एसडीएम को गिरफ्तार करने भोपाल पुलिस रवाना

इंदौर में गिरफ्तार फर्जी लेडी एसडीएम को गिरफ्तार करने भोपाल पुलिस रवाना

mp03.in संवाददाता भोपाल 

इंदौर क्राइम ब्रांच के हत्थे चढ़ी फर्जी एसडीएम नीलम पाराशर को पकड़ने के लिए पुलिस की टीम इंदौर के लिए रवाना हो गई है। दरअसल पहले पुलिस उसे नोटिस देने की तैयारी में थी, लेकिन जब मामला हाईप्रोफाइल हुआ और पुलिस की किरकिरी हुई तो अब उसे गिरफ्तार करने की बात कह रही है, जबकि पहले उसे नोटिस दिया जा रहा था।  भी तलाश थी, वह तीन माह से मिसरोद पुलिस को चकमा दे रही थी। उसकी गिरफ्तारी के बाद से भोपाल पुलिस ने शनिवार इंदौर जाएगी। मिसरोद पुलिस ने उसे एक वीआईपी शादी समारोह में राज्यपाल मंगुभाई पटेल के आसपास संदिग्ध हालत में घूमते देखा था, उसके सुरक्षा गार्ड को अजीब तरीके से पुलिस यूनिफार्म पहनने पर शंका होने पर उसे हिरासत लेकर पूछताछ की गई थी। बाद में उस केस दर्ज कर गिरफ्तार कर लिया गया था। डीसीपी जोन-1 श्रृद्धा तिवारी के मुताबिक इंदौर निवासी नीलम पाराशर के खिलाफ जून माह में धोखाधड़ी की मंशा से लोकसेवक के पद का इस्तेमाल करने की धारा आइपीसी 171 और 419 के तहत एफआइआर दर्ज है। जून 2022 में मिसरोद में एक शादी समारोह में वह एसडीएम लिखी कार से पहुंची थी। उसमें प्रदेश के राज्यपाल, मंत्री और अधिकारी भी पहुंचे थे। जहां एसडीएम बनकर नीलम के सुरक्षा गार्ड सोहित कुमार पिता अशोक कुमार मोरछले उम्र 22 साल ग्राम खिड़की बाला थाना हरदा को पुलिस यूनिफार्म में देखकर पुलिस अफसरों ने उसे बुलाया और पूछताछ की। उसका पहचान पत्र देखा तो वह राजस्व विभाग का निकाला था। बाद में उस पर एफआइआर दर्ज कर गिरफ्तार किया गया था। उस कार को पुलिस ने जब्त किया और उसके मालिक के बयान दर्ज होने के बाद नीलम पाराशर पर एफआईआर दर्ज की गई थी। हालांकि उस समय महिला की गिरफ्तारी और एफआइआर दर्ज नहीं होने को लेकर कई रसूखदारों ने पुलिस पर दबाव भी बनाया था। हालांकि गुरुवार को इंदौर क्राइम ने 40 साल की नीलम पाराशर को गिरफ्तार किया तो उसकी कारगुजारियों की लंबे कारनामें सामने आ गए। उसके पास से महिला बाल विकास और लोक निर्माण विभागों में नियुक्ति के फर्जी आदेश भी मिलें है। इसके बाद मिसरोद पुलिस भी सक्रिय हो गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.