होटल में गैस सिलेंडर फटने से झुलसे मासूम के बाद मां ने भी दम तोड़ा

होटल में गैस सिलेंडर फटने से झुलसे मासूम के बाद मां ने भी दम तोड़ा

mp03.in संवाददाता भोपाल 

 कोलार इलाके में रेस्टोरेंट के किचन में बीते दिनों हुए अग्निकांड में  झुलसे मासूम की मौत के बाद शुक्रवार को उसकी मां ने भी अस्पताल में दम तोड़ दिया। जबकि एक अन्य युवक जिंदगी और मौत के बीच झूल रहा है। उसका अस्पताल में उपचार जारी है। वहीं महिला की मौत के मामले में भी पुलिस ने मर्ग कायम कर लिया है।
– यह है मामला
ललिता नगर में चटकारा रेस्टोरेंट है। उसके मालिक रवि है। उनके रेस्टोरेंट के किचन में 40 साल की कविता तिवारी रोटियां बनाती थी। आठ दिन पहले शाम करीब साढ़े पांच बजे कविता तिवारी गैस रोटियां बना रही थी। उनके साथ उनका पांच साल का बेटा आयुष भी मौजूद था। इसी बीच गैस सिलेंडर के पाइप में गैस रिसने लगी और आग लग गई। किचन में कविता उनका बेटा आयूष और कुं दन पटेल (33) आग के बीच फ स गए। घटना की जानकारी मिलते ही कोलार थाना पुलिस की टीम पहुंची थी। इस दौरान दौरान फ ायर बिग्रेड भी पहुंच गई। रेस्टोरेंट के सामने से अंदर जाने की जगह नहीं थी। पुलिस ने लोहे की सब्बल से पीछे किचन की दीवार तोड़ी और मां-बेटे को बाहर निकाला। तीनों बुरी तरह से झुलस चुके थे। एंबुलेंस के समय पर नहीं पहुंचने के कारण तत्काल ही तीनों को डायल-100 से अस्पताल पहुंचाया गया। बताया जाता है कि मां-बेटे करीब पचास फ ीसदी से ज्यादा झुलसे थे। तीनों को गंभीर हालत में हमीदिया अस्पताल पहुंचाया गया था। वहां इलाज के दौरान आयुष की पिछले शनिवार देर रात करीब एक बजे मौत हो गई। कवीता ने बीती रात दम तोड़ दिया। कुंदन की हालत भी नाजुक बनी हुई है। पुलिस ने मामले की जांच की तो पता चला कि रेस्टोरेंट में पर्याप्त सुरक्षा व्यवस्था नहीं थी। वहीं किचन से बाहर निकलने के लिए केवल एक ही गेट था। लिहाजा पुलिस ने रेस्टोरेंट संचालक रवि पर लापरवाही बरतने का मामला दर्ज कर लिया है। आयुष की मौत के बाद रेस्टोरेंट संचालक रवि पर और भी धाराओं में कार्रवाई की जा सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.