लगवाग्रस्त अधेड़ ने बिजली के तार से फंदा बनाकर फांसी लगाकर जान दी

लगवाग्रस्त अधेड़ ने बिजली के तार से फंदा बनाकर फांसी लगाकर जान दी

mp03.in संवाददाता भोपाल 

अयोध्या नगर इलाके में  लकवाग्रस्त अधेड़ ने अज्ञात कारणों से तंग आकर बिजली के तार से फंदा बनाकर  फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली।  आत्महत्या से पूर्व वह सोने जाने का बोलकर कमरे में गए थे। मामले में पुलिस ने मर्ग कायम कर जांच शुरु कर दी है। मृतक के पास से सुसाइड नोट नहीं मिला है। पुलिस का अनुमान है कि बीमारी से तंग आकर उन्होंने जान दी है।
पुलिस के अनुसार 257, एन सेक्टर अयोध्या नगर निवासी अशोक सिंह पिता स्वामीनाथन (50)  तीन चार साल पहले लकवा की बीमारी हो गई थी। जिसके चलते उनका दाहिना हाथ और शरीर का दाहिना हिस्सा भी ठीक से काम नहीं कर रहा था। उनके बड़े बेटे विनित सिंह ने बताया कि वह प्राइवेट काम करता है। गुरुवार को वह घर पर ही था। उसे पिता ने कहा था कि वह सोने के लिए कमरे में जा रहे हैं। दोपहर को वे कमरे में गए थे, लेकिन बाहर नहीं आए। शाम करीब साढ़े 6 बजे विनित पिता के लिए चाय लेकर उनके कमरे में बाहर पहुंचा था। काफी देर तक आवाज देने के बाद भी पिता ने दरवाजा नहीं खोला। अनहोनी की अशंका होने पर विनित कमरे के पीछे बनी खिड़की पर पहुंचा और उसने खिड़की से झांककर देखा था। इस बीच उसे पिता खड़े हुए नजर आए। विनित ने पिता को इस बार भी आवाज दी, लेकिन पिता ने कोई जवाब नहीं दिया। इसके बाद कमरे में लगा टीन का दरवाजा तोड़ा गया। दरवाजा तोडऩे पर पता चला कि पिता ने शेड के पाइप पर बिजली का केबल बांधकर फांसी लगा ली है।
तनावग्रस्त महिला ने तालाब में कूदकर जान दी 
रातीबड़ इलाके में अकेलेपन से डिप्रेशन में आई महिला ने भदभदा पुल से तालाब में कूदकर अपनी जान दे दी। पुलिस ने इस मामले में मर्ग कायम कर जांच शुरू कर दी है। टीआई सुधेश तिवारी के मुताबिक 42 वर्षीय रश्मि शर्मा छोटा-मोटा का करती थी। जबकि उसका पति एलआईसी में करता है। बेटा अपनी पढ़ाई करने के लिए भोपाल से बाहर चला गया था। वह खुद घर में अकेलापन महसूस करती थी, और डिप्रेशन में आ गई थी। कल सुबह वह भदभदा पुल पहुंची और तालाब में छलांग लगा दी। सूचना मिलते ही मौके पर पहुंची पुलिस ने गोताखोरों की मद्द से उसका शव पानी से बाहर निकाला। साथ ही पुलिस ने मृतका का शव बरामद कर उसे पीएम के लिए भेज दिया। हालांकि सुसाइड नोट नहीं मिलने से कारणों का खुलासा नहीं हो सका है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.